नई दिल्ली। वाराणसी में रैली की मंजूरी नहीं मिलने के बाद चुनाव आयोग पर पक्षपात के नरेंद्र मोदी के आरोपों की कांग्रेस और जदयू ने आलोचना की है। दरअसल, मोदी ने चुनाव आयोग पर हमला तेज करते हुए उसकी निष्पक्षता पर सवाल उठा दिए थे। कांग्रेस ने कहा कि भाजपा हताशा में चुनाव आयोग पर इस तरह हमले कर रही है। जदयू ने कहा कि अगर चुनाव आयोग जैसी संस्थाओं को राजनीतिक लाभ के लिए चुनावी मुद्दा बनाया जाएगा, तो देश का चलना मुश्किल है।

*****

'जब किसी राजनीतिक दल का प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार चुनाव आयोग के खिलाफ गुस्से में भड़कते हुए टिप्पणी करता है, तो वह उसकी अपनी छवि को ज्यादा स्पष्ट कर देता है।' -पी. चिदंबरम, वित्त मंत्री

*****

'चुनाव आयोग का विरोध करना तो ठीक है, लेकिन इसे चुनावी मुद्दा बनाना और उसके लिए धरने पर बैठना सही नहंी है। अगर कोई सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ धरना करेगा तो देश कैसे चलेगा।' -शरद यादव, जदयू अध्यक्ष

*****

'चुनाव आयोग पर हमला दुर्भाग्यपूर्ण है। भाजपा उन संस्थानों का सम्मान नहीं करती, जिनके फैसले उस पर उलटा असर डालते हैं।' -सलमान खुर्शीद, वरिष्ठ कांग्रेस नेता

*****

'नरेंद्र मोदी किसी संवैधानिक संस्था में विश्वास नहीं रखते। वह किसी संस्था का सम्मान नहीं करते। वह खुद को कानून और संविधान से ऊपर मानते हैं।' -आनंद शर्मा, वरिष्ठ कांग्रेस नेता

-

पढ़े: कांग्रेस ने अब मोदी की जाति पर उठाए सवाल

मेरा मौन वाणी से ज्यादा प्रखर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस