पाबंदी में ढील मिली तो नैनीताल में उमडऩे लगे सैलानी, पार्किंग फुल, लगा जाम

सीजन में पहली बार पर्यटक वाहनों से डीएसए पार्किंग फुल हो गई और वहां पार्किंग फुल का बोर्ड लगाना पड़ा। फिर पर्यटक वाहनों को मेट्रोपोल पार्किंग भेजा गया। मल्लीताल में पर्यटक वाहनों से जाम भी लगा जिसे खोलने में पुलिस को मशक्कत करनी पड़ी।

Prashant MishraPublish:Wed, 23 Jun 2021 08:28 PM (IST) Updated:Wed, 23 Jun 2021 09:57 PM (IST)
पाबंदी में ढील मिली तो नैनीताल में उमडऩे लगे सैलानी, पार्किंग फुल, लगा जाम
पाबंदी में ढील मिली तो नैनीताल में उमडऩे लगे सैलानी, पार्किंग फुल, लगा जाम

जागरण संवाददाता, नैनीताल : कोविड कफ्र्यू में राहत के बाद सरोवर नगरी में पर्यटकों की भीड़ उमडऩे लगी है। होटल, रेस्टोरेंट, बाजार गुलजार हैं। वीरान पर्यटन स्थलों में रौनक आ गई है। पर्यटकों की आमद बढऩे से टैक्सी, नाव, गाइड, घुड़सवारी का धंधा चल पड़ा है, जिससे गरीब तबके को बड़ी राहत मिली है।

बुधवार शाम तक शहर में एक हजार से अधिक वाहनों ने प्रवेश किया। इस सीजन में पहली बार पर्यटक वाहनों से डीएसए पार्किंग फुल हो गई और वहां पार्किंग फुल का बोर्ड लगाना पड़ा। फिर पर्यटक वाहनों को मेट्रोपोल पार्किंग भेजा गया। मल्लीताल में पर्यटक वाहनों से जाम भी लगा, जिसे खोलने में पुलिस को मशक्कत करनी पड़ी। बारापत्थर, स्नोव्यू, हिमालय दर्शन, टांकी बैंड, पंत पार्क, तिब्बती व भोटिया बाजार में पूरे दिन पर्यटकों की आवाजाही बनी रही। इससे कई होटलों के अधिकांश कमरे फुल हो गए। पर्यटन कारोबारियों के अनुसार, सैलानियों की अग्रिम बुकिंग आनी शुरू हो गई है। उम्मीद है कि अगले वीकेंड पर नैनीताल में काफी संख्या में सैलानी पहुंंचेंगे। कारोबारियों के अनुसार करीब चार हजार पर्यटक नैनीताल पहुंचे, जबकि एक हजार के आसपास वाहनों ने शहर में प्रवेश किया।

छूट मिलते ही नाव संचालक करने लगे नियमों का उल्लंघन

कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आने के बाद पर्यटन गतिविधियां पटरी पर लौटने लगी हैं, जिससे शहर में पर्यटन कारोबार फिर शुरू हो गया है, मगर एक बार फिर नियमों को दरकिनार कर नाव का संचालन किया जा रहा है। पर्यटकों को बिना बिना लाइफ जैकेट ही झील में नौकाओं का बैठाया जा रहा है। ईओ अशोक वर्मा ने बताया कि नौका संचालकों को बिना लाइफ जैकेट नौकायन नहीं कराने की सख्त हिदायत दी गई है। जल्द पालिका और पुलिसकर्मियों की संयुक्त टीम निरीक्षण करेगी। यदि कोई व्यक्ति बिना लाइफ जैकेट के नौकायन कराता पाया गया तो उसका लाइसेंस रद कर दिया जाएगा।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें