'पशुपालन कर आय दोगुनी करें किसान'

पशु आरोग्य मेला के शुभारंभ के मौके पर बोले विधायक

JagranPublish:Mon, 22 Feb 2021 12:15 AM (IST) Updated:Mon, 22 Feb 2021 12:15 AM (IST)
'पशुपालन कर आय दोगुनी करें किसान'
'पशुपालन कर आय दोगुनी करें किसान'

बाराबंकी : देवरा गांव में रविवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय पशु आरोग्य मेले का आयोजन किया गया। उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी फतेहपुर डॉ. टीजे पांडेय के नेतृत्व में 403 पशुओं की जांच की गई। इसमें ज्यादातर पशुओं में बांझपन की समस्या पाई गई। शुभारंभ मुख्य अतिथि विधायक साकेंद्र प्रताप वर्मा ने किया।

विधायक ने कहा कि किसान खेती के साथ गाय, भैंस, बकरी, भेंड़, मछली व कुक्कुट पालन कर आय दोगुना कर सकते हैं। डॉ. टीजे पांडेय ने किसानों को पशुओं के नस्ल चयन व देखभाल व प्रबंधन में विशेष सावधानी बरतने पर जोर दिया। सावधानी बरतकर ही दुग्ध उत्पादन बढ़ाया जा सकता है। डॉ. ने पशुपालकों को पशुपालन के संबंध में उपयोगी जानकारी दी। साथ ही मेला के उद्देश्य पर भी प्रकाश डाला। शिविर में मौजूद चिकित्सक व विशेषज्ञों ने 45 पशुओं की सामान्य चिकित्सा की। 60 के बांझपन समस्या, छह की शल्य चिकित्सा करते हुए 20 मवेशियों का कृत्रिम गर्भाधान किया गया। 200 मवेशियों को कृमिनाशक दवा खिलाई गई। शिविर में बड़ी संख्या में पशुपालक व किसान थे। इस मौके पर पशु-चिकित्सक अधिकारी डॉ. प्रेम वर्मा, देवेश चौहान, पंकज कुमार, विकास वर्मा, डॉ. जय राम लोग मौजूद रहे। पशुओं में फुट रॉट बीमारी फैली, टीम गठित

बाराबंकी : उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. राकेश कुमार शुक्ला के नेतृत्व टीम गठित की गई है। गठित स्वास्थ्य टीम हैदरगढ़ के पूरे केरहन गांव में पहुंचकर फुट रॉट जैसी बीमारी से ग्रसित दुधारू पशुओं का परीक्षण किया।

बीमारी से बचाव के लिए पशुपालकों को जागरूक करने के साथ-साथ दुधारू पशुओं को साफ-सुथरी जगह पर बांधने व गंदे पानी में न जाने की सलाह दी। ऐसा न करने पर पशुओं के पैर व अन्य हिस्सों में सड़न पैदा हो सकती है। स्वास्थ्य टीम ने पशु पालकों से कहा कि संक्रमण से पशु का दुग्ध उत्पादन घट जाता है। पशु लगड़ाने लगता है। पशुकर्मी रामकुमार तिवारी, कृष्णकांत, अंकित सिंह आदि टीम में शामिल रहे।