मंडल कारा में अब तक 28 हो चुके संक्रमण का शिकार

किशनगंज। सबसे सुरक्षित माना जाने वाला मंडल कारा में भी बंदी कर्मी सुरक्षा गार्ड व डॉक्टर क

JagranPublish:Fri, 14 Aug 2020 09:07 PM (IST) Updated:Sat, 15 Aug 2020 06:11 AM (IST)
मंडल कारा में अब तक 28 हो चुके संक्रमण का शिकार
मंडल कारा में अब तक 28 हो चुके संक्रमण का शिकार

किशनगंज। सबसे सुरक्षित माना जाने वाला मंडल कारा में भी बंदी, कर्मी, सुरक्षा गार्ड व डॉक्टर कोरोना वायरस संक्रमण के चपेट में आ चुके हैं। मंडल कारा किशनगंज में अब तक 15 बंदी, एक कंप्यूटर ऑपरेटर, एक डॉक्टर, दो मेडिकल स्टॉफ, सात कक्षपाल और दो हमगार्ड जवान संक्रमित हो चुके हैं। मंडल कारा के कुल बंदी सहित 28 लोग अब तक संक्रमित हो चुके है। हालांकि इसमें एक भी ताजा मामला नहीं है। सबसे पहले तीन जुलाई को तीन बंदी संक्रमित पाए गए थे। इसके बाद 22 जुलाई को छह बंदी व कर्मी और 11 अगस्त को छह बंदी व 12 कर्मी संक्रमित पाए गए।

इस संबंध में जेल अधीक्षक निरंजन कुमार पंडित ने कहा कि बंदी को संक्रमित होने बचाने के लिए मंडल कारा के अंदर और बाहर कैंपस को समय समय पर सैनिटाइजेशन किया जाता है। कोई भी नये बंदी के कारा में आने से उसे 15 दिनों तक कारा में बने आइसोलेशन वार्ड में रखा गया जाता है। सभी संक्रमित बंदी व कक्षपाल को एमजीएम मेडिकल कॉलेज के रूलर हेल्थ सेंटर महेशबथना स्थित आइसोलेशन वार्ड में पूरी सुरक्षा के साथ भर्ती कराया गया है। नियमानुसार जो भी नया बंदी कारा में लाया जाता है उसे कारा में बने आइसोलेशन वार्ड में 15 दिनों तक रखा जाता है। उसके बाद ही उसे अन्य बंदी के संपर्क में आने अनुमति दिया जाता है। बंदी व कर्मी के संक्रमित पाए जाने को लेकर कारा का सैनिटाइज किया गया है।