भारत के सबसे करीब स्थित थाईलैंड सालभर सैलानियों से भरा रहता है। खासतौर पर फुकेत यहां आकर्षण का केंद्र है। यह दक्षिण पूर्व एशिया के लोगों के लिए लोकप्रिय स्थान है, जहां का रेतीला समुद्री तट उन्हें आकर्षित करता है।

अगर आप भीड़भाड़ से बचना चाहते हैं तो सर्दियों में न जाएं। हालांकि यहां सर्दियों में ही मौसम खुशगवार होता रहता है लेकिन इस समय टिकट्स और होटल्स महंगे होते हैं। अप्रैल-मई काफी गर्म महीने होते हैं। बारिश मई-जून से अक्टूबर तक रहती है। दिन में काफी गर्मी होती है लेकिन शाम को मौसम सुहाना हो जाता है।

खानपान और सैर-सपाटा

फुकेत का अपना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है। मलेशिया, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, चीन, इंडोनेशिया, जापान और भारत से फुकेत के लिए अपेक्षाकृत कम बजट में रोजाना फ्लाइट्स अवेलेबल हैं। लोकल जगहों को देखने के लिए बहुत ज्यादा पैसे नहीं खर्च करना चाहते तो किराए पर मोटर बाइक लें या टुकटुक टैक्सी भी यहां लोकप्रिय हैं।

फुकेत टाउन में एक मुख्य बस टर्मिनल है। फुकेत और कोह लांता और कोह फ़ि फ़ि के आसपास के द्वीप पर क्रबी से नाव द्वारा पहुंचा जा सकता है। स्ट्रीट फूड के शौकीन नहीं हैं तो फुकेत आकर आपकी पसंद बदल जाएगी। यहां जगह-जगह स्ट्रीट फूड नज़र आता है। छोटे हॉकर्स, स्टॉल्स और स्थानीय नूडल्स की दुकानों से सी फूड तक हर बजट में यहां स्वादिष्ट भोजन मिलता है। थाई फूड भुत्भी स्वादिष्ट के साथ हेल्दी होता है। ट्रेडिशनल फूड के लिए नाकले की खाड़ी में ओल्ड सियाम रेस्तरां अच्छा ऑप्शन है।

खूबसूत और एडवेंचरस आइलैंड्स

यहां जाएं तो फांग नगा बे और जेम्स बॉन्ड द्वीप की सैर करना न भूलें। अंडमान सागर के फ़िरोजा पानी से बाहर निकलने वाले कार्स जटिंग के द्वारा एक बोट से फांग नगा खाड़ी की सैर मेरे लिए न भूलने वाला अनुभव रहा। जेम्स बॉन्ड द्वीप और कोह पैनी इस खाड़ी में बहुत मशहूर हैं। जेम्स बॉन्ड सीरीज की फिल्म ' मैन इन द गोल्डेन गन' की शूटिंग यहीं हुई है। सिमिलन और सुरिन प्राचीन आइसलैंड हैं। समुद्र के भीतर की दुनिया देखना चाहते हैं तो गोताखोर बनकर शार्क, ऑक्टोपस और रंगबिरंगी मछलियों का जायज़ा लें।

फुकेत के आसपास के सभी द्वीपों में सबसे मशहूर है कोह फ़ि फ़ि। अंडमान सागर के इस हिस्से में दो द्वीप हैं। इनमें फ़ि फ़ि डॉन खास है, जहां ज्यादातर सैलानी रातभर मौज-मस्ती करते हैं। फ़ि फ़ि लेह दूसरी जगहों की अपेक्षा शांत दक्षिणी द्वीप है और यहां रात में रुकने का इतंजाम नहीं है।

समुद्री तट

फुकेत अपने सुंदर समुद्री तटों के लिए जाना जाता है। मस्त नाइट लाइफ के लिए पटोंग बीच का रुख कर सकते हैं। दोस्तों के साथ यहां जाकर ज्यादा मस्ती की जा सकती है। यहां आसपास काफी घूमने वाली जगहें हैं। समुद्र तट पर दोपहर के समय भी शानदार माहौल रहता है।

काटा और करोन रेतीला द्वीप है और पटोंगी की तुलना में कम भीड़ होती है लेकिन यहां आंखों को सुकून देने वाले कई नज़ारें हैं। कलीम बे एक शांत स्थान है। यहां ट्रेंडी बार और रेस्तरां का अंबार है। पहाड़ों से घिरा प्रकृति के करीब कलीम भी टूरिस्टों की हिटलिस्ट में शामिल है।

पटोंग से थोड़ा ऊपर स्थित है चेर्नगाल्टे। इंटरनेशनल रेस्तरां बार और समुद्र तट क्लब्स देखने के लिए यहां जा सकते हैं।

नज़ारे प्यारे-प्योरे

फुकेत की सबसे ऊंची पहाड़ियों में पनवा का नज़ारा शायद इस द्वीप का सबसे सुंदर नज़ारा है। केप पानवा में स्थित करोन विंडमिल व्यूपॉइंट व प्रोमथेप क्रेप पहाड़ी के पॉइंट पर सरकारी रडार हिल पातोंग, चॉलोंग और फुकेत टाउन के दृश्य सुकून देने वाले हैं। देर रात तक यहां बार और नाइट क्लब्स चलते हैं। म्यूज़िकल नाइट्स होती हैं, स्थानीय संगीत और संस्कृति का मज़ा नारियल पानी पीते हुए भी लिया जा सकता है।

यहां पहली बार जाएं तो कुछ खास जगहों को देखना न भूलें...

वाट चॉल्ग

वाट चॉल्ग यहां का सबसे बड़ा मंदिर है। इस रंगीन इमारत में थाई और बौद्ध पौराणिक कथाएं बिखरी हुई हैं और बुद्ध की अलग-अलग मुद्राएं दिखती हैं। यहां कई बुद्ध प्रतिमाएं हैं, जिनमें सबसे प्रतिष्ठित मंदिर के पुराने हॉल में स्थित पोह थान जा वॉट है।

साइमन कैबरे

पटोंग बीच के पास स्थित साइमन कैबरे यहां के मुख्य आकर्षणों में से एक है। यहां जगमगाती रोशनियों के बीच नृत्यांगनाओं के मनमोहक अंदाज दर्शकों को मदहोश कर देते हैं।

का ओ सोक नेशनल पार्क

यहां आप ट्री हाउस, हाथियों सहित कई दूसरे जीव-जंतुओं और शांत नदियों का आनंद ले सकते हैं। यह पार्क दुनिया के सबसे पुराने जंगलों में गिना जाता है। शानदार झरने यहां की पहचान हैं।

बुद्ध प्रतिमा

45 मीटर की ऊंचाई वाली बड़ी बुद्ध प्रतिमा फुकेत के सबसे प्रतिष्ठित स्थलों में से एक है, साथ ही सैलानियों के आकर्षण का केंद्र भी है। यह विशाल स्मारक चांगलोंग और काटा के बीच नकेरड हिल्स पर है।

Posted By: Priyanka Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप