मैसूर महल को अंबा विलास महल के नाम से भी जाना जाता है। यह महल विश्व के सर्वाधिक घूमे जाने वाले स्थलों में से एक है। इसका प्रमाण इस बात से भी मिलता है कि न्यूयॉर्क टाइम्स ने इसे विश्व के 31 अवश्य घूमे जाने वाले स्थानों में रखा है। आप इस महल में गोंबे थोटी या डॉल्स पवेलियन से प्रवेश कर सकते हैं। इस प्रवेश द्वार पर 19वीं और 20वीं शताब्दी की बनी गुड़ियों का एक समूह रखा गया है। इस महल में इंडो-सारासेनिक, द्रविडियन, रोमन और ओरिएंटल शैली का वास्तुशिल्प देखने को मिलता है। इस तीन तल्ले महल के निर्माण में निर्माण के लिए भूरे ग्रेनाइट, जिसमें तीन गुलाबी संगमरमर के गुंबद होते हैं, का सहारा लिया गया है। महल के साथ-साथ यहां 44.2 मीटर ऊंचा एक पांच तल्ला टावर भी है, जिसके गुंबद को सोने से बनाया गया है।

इसके अलावा यहां एक लकड़ी का बना हाथी हौदा है, जिसे 81 किलो सोने से सजाया गया है। गोंबे थोटी के सामने दशहरा के मौके पर समारोह का समापन किया जाता है और 200 किलो के मुकुट को आम लोगों के लिए प्रदर्शित किया जाता है।

महल में आप उन कमरों को भी देख सकते हैं जिनमें शाही वस्त्र, छायाचित्र और गहने रखे गए हैं। साथ ही महल के दीवार को सिद्धलिंग स्वामी, राजा रविवर्मा और के. वेंकटप्पा के पेंटिंग्स से सजाया है। 14वीं से 20वीं शताब्दी के बीच बनाए गए मैसूर महल में 12 मंदिरें भी हैं, जिनमें अलग-अलग वास्तुशिल्पीय बनावट देखने को मिलती है।

जगनमोहन महल का शुमार शहर के सबसे पुराने भवनों में कया जाता है। अगर आप मैसूर में हैं तो यह महल महल घूमने की कोशिश जरूर करें। इस महल का निर्माण मैसूर के राजाओं द्वारा 1961 में किया गया था। 1897 में जब पुराना लकड़ी का महल आग में जलकर नष्ट हो गया तो मुख्य महल के निर्माण होने तक जगनमोहन महल शाही परिवारों का निवास स्थान भी रहा।

1902 में कृष्णराजा वुडेयार चतुर्थ ने महल को अपने कमान में ले लिया और इस मौके पर आयोजित एक समारोह में तत्कालीन वाइसराय और गवर्नर जेनरल ऑफ इंडिया लॉर्ड कजर्न ने भी शिरकत की थी। पर्यटक महल में शादी के पवेलियन को भी देख सकते हैं, जिसे कृष्णराजा वुडेयार चतुर्थ की शादी के दौरान बनवाया था। इस पवेलियन को दरबार हाल के नाम से भी जाना जाता है और इसकी प्रसिद्धी इस बात को लेकर है कि कृष्णराजा वुडेयार चतुर्थ यहां अपना जन्मदिन मनाया करते थे।

इस हॉल का प्रयोग संगीत उत्सव, नाटक और सांस्कृतिक गतिविधियों के साथ-साथ मैसूर युनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह के लिए भी किया जाता था। आज इस महल का प्रयोग दशहरा त्योहार के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम और समारोह के लिए किया जाता है। महल में दो विशाल लकड़ी के दरवाजे हैं, जिसमें भगवान विष्णु के दसावतार की नक्काशी के साथ-साथ मैसूर के राजाओं की पेंटिंग और हस्तशिल्प बने हुए हैं।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस