नई दिल्ली। पृथ्वी पर जन्नत कहीं है, तो यहीं है। यह बात कश्मीर के लिए कही जाती है, लेकिन जब बात खाने की हो, तो यह भोपाल पर लागू होती है। झीलों के इस शहर में सुकून के साथ जायके का अपना मजा है। एक तरफ पहाड़ हैं, तो दूसरी तरफ झील और बीच में मुगलई खानों से अपनी ओर खीच लेने वाली सुगंध। बरसात के इस मौसम में भोपाल निखरकर सामने आता है। यह ऐसा मौसम है, जब आप भोपाल में सुंदरता और स्वाद दोनों का आनंद ले सकते हैं। यह छोटा शहर सुबह पोहे से लेकर रात में मिलने वाली बिरयानी के लिए जाना जाता है। वैसे तो भोपाल में बहुत सी जगहें मशहूर हैं, लेकिन हम उन जगहों के बारे में बताएंगे जो वहां के निवासी ही बता सकते हैं। अब अगर आप भोपाल जाने का मन बना रहे हैं, तो इन जगह जाना न भूलें...

1. हिन्दुस्तानी बिरियानी

भोपाल शहर में झील के किनारे एक जगह है इकबाल मैदान। इस मैदान के सामने एक बूढ़े से दादा बिरयानी बेचते हैं। चिकन बिरयानी के लिए यह जगह छात्रों और मुगलई खाने के शौकीन के बीच काफी चर्चित है। शाम छह बजे के बाद एक पुरानी-सी दीवार से लगी एक दुकान खुलती है। ना कोई ढांचा है और ना कोई बोर्ड। बस दुकान है और उसके चाहने वाले। 60 रुपये प्लेट मिलने वाली इस बिरयानी की खास बात है कि इसमें मसाले का कॉम्बिनेशन बहुत शानदार है। चिकन के साथ खाने में एक अंडा भी मिलता है, जो जायके को बड़ा देता है। इस दुकान के सामने आपको गाड़ियों की कतार दिखेगी, जिस पर बैठ कर लोग बिरयानी के मजे लेते नजर आएंगे।

2. राजू टी स्टॉल

चाय के शौकीनों के लिए जाना-माना नाम है भोपाल का राजू टी स्टॉल। यहां पर सुबह से देर रात तक ग्राहकों की भीड़ लगी रहती है। हिन्दुस्तानी बिरयानी वाली ही सड़क पर थोड़ा-सा आगे बढ़ते ही यह दुकान आपको मिल जाएगी। नमक वाली चाय के साथ बॉलीवुड और राजनीति पर जोरदार चर्चा यहां की खास बात है। वर्ष 1990 में छोटी-सी गुमटी खोलकर फरीद नामक युवक ने चाय बेचने का काम शुरू किया था। आज हालात हैं कि इस दुकान पर कई सेलिब्रिटी आ चुके हैं। दुकान पर 12 रुपये की कटिंग, तो 24 रुपये की फुल चाय मिलती है। चाय के अलावा आप पोहा और मूंग दाल के पकौड़े (मंगोड़े) के भी मजे ले सकते हैं।

3. इतवारा

इतवारा कोई दुकान का नाम नहीं है। यह एक जगह है, जो रात के 9 बजे से बाजार की शक्ल लेना शुरू करती है। स्ट्रीट फूड की संस्कृति का नायाब नमूना है। यहां आपको साउथ के डोसा से लेकर बनारस स्पेशल भेल भी मिल जाएगी। यह आपको भोपाल की पंसदीदा जायके से रूबरू कराएगा। भोपाल शहर के बीचों बीच लगने वाला यह बाजार रात के 2 से 3 बजे तक खुला रहता है। यहां आपको वेज बिरयानी और पाव भाजी भी खाने को मिलेगी। इसके अलावा स्पेशल किस्म का दाल पकवान भी खाने को मिलाता है। यह जगह कबाड़खाना रोड के ठीक नीचे है। अगर आपको रात में घूमने में मजा आता है, तो यह जगह आप के लिए है।

3. बैरागढ़ के अंडा पाव

भोपाल शहर से सिहोर जाते वक्त रास्ते में एक जगह है बैरागढ़। यहां सिहोर-भोपाल हाइवे के मोड़ पर मिलता है अंडा-पाव। वड़ा-पाव जैसे ही इसमें अंडे की बीच मसाला भरकर वड़ा तैयार किया जाता है। इस दुकान की खास बात है अंडा-पाव के साथ मिलने वाली चटनी। जो इसके जायके को कई गुना बढ़ा देती है। अगर आप भोपाल गए हैं, तो इस अंडा-पाव को एक बार जरूर चखना चाहिए। 

4. हाजी की लस्सी

हाजी की लस्सी या भूरा भाई की लस्सी। भोपालियों की खास जगह है। बिना बर्फ के बना फालूदा और मलाई से लदी लस्सी भोपाल ही नहीं बाहर तक काफी फेमस है। इस लस्सी की खास बात है कि आप एक ग्लास से ज्यादा नहीं पी सकते। हालांकि, इसका मजा आप सर्द मौसम में नहीं उठा सकते, क्योंकि उस वक्त दुकान बंद होती है। यह दुकान भी इतवारे के पास ही है।

5. मामा की जलेबी

भोपाल में दो मामा हैं। एक जो भाजपा की बागडोर संभालने वाले हैं और दूसरे लोगों को जलेबी खिलाने वाले मामा। मामा की जलेबी के नाम से मशहूर दुकान पुराने शहर में है। यहां रबड़ी और जलेबी का अपना ही मजा है। हालांकि, इसके अलावा आपको भोपाल में मावा जलेबी भी खाने को मिल जाएगी। जिसमें खोवा आपको जलेबी के अंदर मिलेगा।

इन दुकानों के अलावा अब्दुल्लागंज के गुलाबजामुन, पोहा, कबाब और रतलामी सेव भोपाल में स्वाद को जिंदा रखा है। इसके अलावा पुराने शहर में शीरमाल और ईरानी चाय का भी स्वाद मिलता है। साथ ही साथ कुछ पुरानी दुकाने हैं जिनके मुगलई खाने का आप मजा ले सकते हैं। कुछ भी हो भोपाल जाईए और सुकून से खाईए।

 

Posted By: Ruhee Parvez

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप