अर्थ डे, जो हर साल 22 अप्रैल को पूरी दुनिया में मनाया जाता है। इस एक दिन मौका मिलता है आप जिस प्लेनेट पर रह रहे हैं उसके बारे में जानने-समझने का। लगातार हो रहे डेवलपमेंट बेशक देश को आगे बढ़ाने के लिए जरूरी हैं लेकिन उनकी कीमत जब प्रकृति को चुकानी पड़े तो इसका नतीजा खतरनाक हो सकता है। जो काफी जगहों पर देखने को भी मिल रहा है लेकिन आज भी भारत में ऐसी कई सारी जगहें हैं जहां लोग अर्थ डे का इतंजार नहीं करते और अपनी इन नायाब चीज़ों के प्रति जागरूक हैं। तो आइए जानते हैं इंडिया की ऐसी ही कुछ खास जगहों के बारे में...   

केरल, इंडिया

केरल इंडिया का बहुत ही खूबसूरत डेस्टिनेशन्स में से एक है जहां की हरियाली और ऊंचे-ऊंचे पहाड़ आपको खुश और आश्चर्यचकित करने का कोई मौका नहीं छोड़ते। थेनमाला और कुम्बलांगी, ये दो यहां के ऐसे गांव हैं जहां आकर आप भारत के पारंपरिक खानपान, मछली पालन, रहन-सहन और इकोसिस्टम को देखने उसके बारे में जानने के साथ ही उसे एन्जॉय भी कर सकते हैं। यहां कई सारे इको फ्रेंडली रिजॉर्ट भी मिलेंगे। जो पूरी तरह से मड से बने हुए होते हैं जहां रहने का एक्सपीरिएंस बहुत ही अलग और खास होता है। यहां कई सारी ऑफबीट डेस्टिनेशंस भी हैं जो सोलो ट्रैवलिंग के लिहाज से बेस्ट हैं। 

अरुणाचल प्रदेश

नॉर्थ ईस्ट का बहुत ही खूबसूरत खज़ाना है अरुणाचल प्रदेश। जहां का खुशगवार मौसम और दूर-दूर तक फैले घास के मैदान इसे बनाते हैं और भी आकर्षक। अरुणाचल भारत के उन जगहों में शामिल है जहां कुदरत की बेशुमार खूबसूरती फैली हुई है। यहां प्रकृति के इन नायाब खज़ाने को बरकरार रखने के साथ ही उसे बढ़ावा देने के लिए कई सारे प्रोजेक्ट्स भी चलाए जाते हैं। जिससे लोग उनके बारे में अधिक से अधिक जानें और उसके संरक्षण में सहयोग दे सकें। 

माथेरान, महाराष्ट्र

माथेरान, महाराष्ट्र के पश्चिमी घाट में स्थित है और इंडिया का बहुत ही छोटा लेकिन एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। यहां की भोगौलिक स्थिति को देखते हुए इसे ईको-सेंसिटिव एरिया के अंतर्गत रखा गया है। मुंबई से होते हुए यहां तक आसानी से पहुंचा जा सकता है। 44 किमी की दूरी को आप आसानी से 2 घंटे में तय कर सकते हैं। चारों तरफ फैली हरियाली और गहरी घाटियां, इस जगह की खूबसूरती में लगाती हैं चार चांद। 

मावलिनॉन्ग, मेघालय

मेघालय का मावलिनॉन्ग, एशिया का सबसे साफ-सुथरा गांव है। यहां प्रकृति ने अपनी बेशुमार नेमत बरसाई हुई है। उससे भी अच्छी चीज़ है कि लोग इसकी कीमत जानते हैं और इसे बचाने के लिए हर तरह का प्रयास करते हैं। शिलॉन्ग से 90 किमी की दूरी पर बसा है यह गांव। अगर आप नेचर के साथ ही एडवेंचर लवर हैं साथ ही कुछ नया भी एक्सप्लोर करना चाह रहे हैं तो इस गांव में आपको ढेरों मौके मिलेंगे। 

नग्गर, हिमाचल प्रदेश

कई सारे खूबसूरत मंदिरों और पुराने किलों से घिरा हुआ है हिमाचल का नग्गर। जो एक हिल स्टेशन भी है। अगर आप नेचर को करीब से देखने के साथ ही उसका अहसास भी करना चाहते हैं तो नग्गर है परफेक्ट डेस्टिनेशन। जंगल से लेकर बाग और पहाड़ों पर बसे छोटे-छोटे गांव इस जगह की खूबसूरती हैं। 

तवांग, अरुणाचल प्रदेश

शानदार मोनेस्ट्रीज़, पहाड़ों पर बसे गांव और नेचुरल ब्यूटी इस जगह को बनाती है और भी खास। रोड ट्रिप हो या ट्रैकिंग, तवांग में हर तरह का एडवेंचर किया जा सकता है एन्जॉय। यहां भी लोग अपने प्राकृतिक खजानों के प्रति काफी जागरूक हैं और यही वजह है आज तक इसकी खूबसूरती बरकरार है। सोलो ट्रिप हो या ग्रूप यहां आकर आप बोर नहीं होंगे इसकी गारंटी है।     

कुर्ग, कर्नाटक

चारों तरफ पेड़ों से घिरे हुए कुर्ग आकर आपको ऐसा लगेगा जैसे आप जन्नत की सैर कर रहे हैं। प्रकृति के बेहद करीब ये जगह घूमने-फिरने के ही नहीं फोटोग्राफी के लिहाज से भी है बेहतर। चाय-कॉफी के बागानों और मसालों  की खुशबू आपको कर देती है तरोताज़ा। यहां घूमने वाली जगहों की कमी नहीं और हर एक जगह अपनी अलग खासियत लिए हुए है। खास बात जो यहां देखने को मिलती है वो है कि यहां ऐतिहासिक जगहों से ज्यादा पार्क, झील और झरनों की भरमार है। जहां एडवेंचर के साथ ही एक्सप्लोर करने का भी मौका मिलता है।

      

 

Posted By: Priyanka Singh