नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोना ने दुनिया के ज्यादातर देशों को अपनी गिरफ्त में लिया हुआ है। अमेरिका इस बीमारी से सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है, जहां 3 करोड़ से ज्यादा कोरोना के मामले सामने आए हैं, और साढ़े 5 लाख से ज्यादा लोगों की मौतें हुई है। इतनी बड़ी तबाही होने के बावजूद भी ये देश अपने आप को मज़बूत बनाया हुआ है। अब न्यूयॉर्क में सभी बिजनेस, इंटरटेनमेंट और स्पोर्ट वैन्यू को पूर्ण रूप से खोला जा रहा है जिसमें लोगों के भाग लेने के लिए डिजिटल पास की सुविधा दी जा रही है।

अमेरिका में कोरोना ने बेहद तबाही मचाई है उसके बावजूद इस देश को कभी भी पूरी तरह बंद नहीं किया गया। अब यहां वैक्सीनेशन अभियान तेज़ी से चल रहा है। इतनी बड़ी तबाही के बावजूद भी यहां काम को प्रमुखता दी जा रही है। न्यूयॉर्क ने इसी सिलिसिले में एक डिजिटल एप लॉन्च किया है जो कोरोना फ्री लोगों को कोविड-19 डिजिटल पास मुहैया कराएगा। इस डिजिटल पास से यह साबित होगा कि उस व्यक्ति ने कोरोना की दोनों डोज वैक्सीन ले ली है यह कोरोना निगेटिव है। इस डिजिटल पास से व्यक्ति अगर कहीं जाएगा तो उसे कोरोना फ्री माना जाएगा और उसका कामकाज प्रभावी तरीके से हो सकेगा।

क्यूआर कोड से लैस कहीं भी कोरोना स्टेट्स को जाना जा सकेगा:

न्यूयॉर्क में बिजनेस, स्पोर्ट और इंटरनमेंट वैन्यू को तेजी से खोला जा रहा है। इन जगहों पर सर्विस प्रभावित नहीं हो इसके लिए डिजिटल पास की व्यवस्था की जा रही है। न्यूयॉर्क अमेरिका का पहला राज्य है जिसने कोविड-19 के लिए डिजिटल पासपोर्ट की सुविधा प्रदान की है। इस पास को आईबीएम द्वारा विकसित किया गया है और यह फ्री ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर लोगों के लिए उपलब्ध है। इस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म को एक्सलसर पास नाम दिया गया है। यह मोबाइल एयरलाइन बोर्डिंग पास की तरह है। यूजर को सेक्योर क्यूआर कोड के साथ डिजिटल पास एक्सेस करने की सुविधा होगी। इसे स्मार्टफोन में सेव किया जा सकता है या इसका प्रिंट आउट निकाला जा सकता है। अगर किसी काम के लिए या किसी वैन्यू में व्यक्ति भाग लेने जाएगा तो वहां के लोग क्यूआर कोड से इसे एक्सेस कर उस व्यक्ति के कोरोना स्टेट्स को जान सकेंगे।

डिजिटल पास गोपनीयता और सुरक्षा का रखेगा ख्याल:

न्यूयॉर्क राज्य के अधिकारी का कहना है कि व्यक्ति का डाटा पूरी तरह सुरक्षित होगा और इसे गोपनीय भी रखा जाएगा। एक अधिकारी ने बताया कि पब्लिक हेल्थ और इकोनोमी का विकल्प पूरी तरह से दिग्भ्रमित करने वाला है क्योंकि दोनों विकल्पों में से किसी को भी छोड़ा नहीं जा सकता। चूंकि हमें बिजनेस को भी चलाना है और हेल्थ का भी ख्याल रखना है, इसलिए हमें सतर्कता के साथ व्यवस्था करनी होगी।

9.5 करोड़ लोगों को दी चुकी है वैक्सीन:

अमेरिका में वैक्सीनेशन ड्राइव को तेज कर दिया गया है। सेंटर फ़ॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के आंकड़ों के मुताबिक अब तक अमेरिका में 9.5 करोड़ लोगों को कम से कम वैक्सीन की पहली डोज दी चुकी है। इनमें 5.26 करोड़ लोगों को या तो जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वाली वैक्सीन या फाइजर और मॉडर्ना की डबल डोज वाली वैक्सीन दी जा चुकी है।

                       Written By: Shahina Noor

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021