दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोना वायरस महामारी संकट के बीच ब्रिटेन में हालात धीरे-धीरे सामान्य होते जा रहे हैं। इस मद्देनजर पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए देश के दरवाजे खोल दिए गए हैं। इस बात की जानकारी ब्रिटेन सरकार के आधिकारिक घोषणा से होती है, जिसमें 60 देशों को क्वारंटाइन-मुक्त प्रवेश की अनुमति दी गई है। इसका मतलब यह हुआ कि इन देशों के नागरिकों के ब्रिटेन जाने पर उन्हें क्वारंटाइन नहीं किया जाएगा। इस लिस्ट में भारत और अमेरिका को नहीं रखा गया है।

इस बारे में ब्रिटेन सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि ये सुविधा केवल उन देशों के लिए हैं, जहां कोरोना वायरस का खतरा बहुत कम है। इस देशों की सूची भी सार्वजनिक की गई है, जिसमें जर्मनी, स्पेन, फ्रांस, इटली, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड प्रमुख है। इसके अलावा एशिया महादेश के जापान, ताइवान, हांगकांग, वियतनाम, कैरिबियन, मॉरीशस और सेशेल्स देशों को कम खतरा वाला देश बताया गया है। इन देशों के नागरिकों को भी क्वारंटाइन-मुक्त प्रवेश की अनुमित दी गई है।

ब्रिटेन के परिवहन सचिव, ग्रांट शाप्स ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि देश ने चौबीसों घंटे काम किया है। तब जाकर स्थिति सुधरी है। हमारी प्राथमिकता सुरक्षा होनी चाहिए। ब्रिटेन ने भारत की तरह दुनिया के अन्य हिस्सों से आने वाले यात्रियों के लिए 14 दिनों की आइसोलेशन नीति को अपनाया था। अब जबकि इसमें बदलाव किए गए हैं तो यात्रियों को 10 जुलाई से आइसोलेट नहीं किया जाएगा।

हालांकि, अगर हालात बेकाबू होती है और स्वास्थ्य जोखिम बढ़ जाते हैं तो COVID-19 मामलों के प्रसार को रोकने के लिए आइसोलेशन नीति को अपनाया जा सकता है। गौरतलब है कि ब्रिटेन में कुल 2 लाख 86 हजार लोग संक्रमित पाए गए हैं, जिनमें 44 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि रोजाना 500 से अधिक केसेस अब भी आ रहे हैं।  

Posted By: Umanath Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस