अगले महीने दसवीं और बारहवीं। (सीबीएसई) के बोर्ड एग्जैम शुरू हो जाएंगे। पिछले साल टीनएजर्स के सामने कई चुनौतियां थीं, ऑनलाइन क्लासेज़ का अनुभव उनके लिए बिल्कुल नया था। इसी वजह से परीक्षा की तैयारी को लेकर अब उनके मन में कई सवाल उठ रहे हैं, आइए उनके जवाब जानते हैं एक्सपर्ट के साथ।

1. स्टूडेंट्स के पास अब केवल एक महीने का समय है, ऐसे में उन्हें तैयारी के लिए क्या तरीका अपनाना चाहिए?

अब छात्रों को रिवीज़न करना चाहिए। डायग्राम, फार्मूला और हर विषय के बेसिक कॉन्सेप्ट पर विशेष ध्यान देना जरूरी है। वैसे सवालों के जवाब को लिखकर याद करें, जिनके लिए प्रश्नपत्र पर ज्यादा अंक निर्धारित किए जाते हैं। जिन छात्रों ने पूरे साल व्यवस्थित ढंग से पढ़ाई नहीं की है, वे पिछले 5 वर्षों के प्रश्नपत्र को ध्यान से देखकर उनमें से वैसे टॉपिक से जुड़े सवालों को हल कर लें, जिन्हें अकसर पूछा जाता है।

2. स्वयं को मानसिक रूप से कैसे तैयार करना चाहिए?

इसी समस्या को देखते हुए दसवीं और बाहरवीं कक्षा के छात्रों के लिए ज्यादातर स्कूल पहले से ही खुल गए हैं। फिर भी अगर छात्र चाहें तो दो-चार दिन पहले जाकर सेंटर देख आएं, इससे उनकी असहजता दूर हो जाएगी। ऑनलाइन क्लासेज़ के दौरान हाथों से लिखने की प्रैक्टिस छूट गई होगी तो सवालों के जवाब पॉइंट्स बनाकर लिखते हुए याद करें।

3. साइंस-मैथ्स के अलावा अन्य विषयों के रिवीज़न का क्या तरीका होना चाहिए?

फिजिक्स-केमेस्ट्री में न्यूमरिकल्स सॉल्व करने की प्रैक्टिस करें। बॉयोलॉजी में कॉन्सेप्ट से संबंधित कुछ शब्दों को सही ढंग से याद रखने की जरूरत होती है। इसका सबसे सही तरीका यह है कि इन्हें चार्ट पेपर पर कलरफुल स्केच पेन लिखकर या हाइलाइटर से मार्क करके किसी ऐसी दीवार पर चिपका दें, जिस पर अकसर आपकी नजर पड़ती हो। रोजाना मैथ्स के कुछ सवाल हल करें। इसके लिए शॉर्टकट तरीका न अपनाएं, बल्कि साथ में पूरा फॉर्मूला भी लिखें। इससे गलती होने की आशंका नहीं रहती। हिस्ट्री और सोशल साइंस जैसे विषयों को याद रखने का वैज्ञानिक तरीका यह है कि कोई भी चैप्टर पढ़ने के बाद एक पेपर पर सबसे पहले उसकी हेडिंग लिखें, फिर उसकी 5 प्रमुख बातों को पॉइंट्स बनाकर लिखें, फिर एक-एक करके उससे जुड़े विवरण को मन ही मन दोहराएं।

4. पढ़ाई के बारे में दोस्तों के साथ ग्रूप डिस्कशन कितना सही है?

यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपके दोस्त कैसे हैं? कुछ स्टूडेंट्स को इससे बहुत फायदा होता है और उन्हें बातें याद रखने में आसानी होती है। दिक्कर तब होती है, जब आपके दोस्त इधर-उधर की बातें करके आपका ध्यान भटका देते हैं। ऐसे लोगों से बचने के लिए अपना फोन फ्लाइट मोड पर रखें और जब बहुत जरूरी हो तभी कॉल करें।

5. परीक्षा के दौरान मन को तनावमुक्त रखने के लिए किन बातों पर ध्यान देना चाहिए?

रोज़ाना आठ घंटे की नींद जरूर लें। तनाव की वजह से शरीर के भीतर कई हानिकारक तत्वों का सीक्रिशन होता है, इसलिए ज्यादा पानी पीएं। रिजल्ट के बारे में बिल्कुल न सोचें, पूरी तरह रिलैक्स होकर परीक्षा देने जाएं। 

(गगनदीप कौर, यूनीक साइकोलॉजिकल सर्विसेज से बातचीत पर आघारित)

Pic credit- freepik 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021