नई दिल्ली। जागरण की वेबसाइट 'विश्वास न्यूज़' की फैक्ट चेक टीम हर दिन सोशल मीडिया पर वायरल हो रहीं ख़बरों का सच हमारे रीडर्स के लिए सामने लाने का प्रयास करती है। पेश हैं गुरुवार की ऐसी ही टॉप 6 ख़बरें।

Quick Fact Check: नेहरू परिवार की मनगढ़ंत वंशावली से किया जा रहा दुष्प्रचार

सोशल मीडिया पर देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू और उनके परिवार की धार्मिक पहचान को लेकर एक फर्जी पोस्ट वायरल हो रही है। वायरल पोस्ट में एक तस्वीर शेयर की जा रही है, जिसमें कथित तौर पर नेहरू-गांधी परिवार वंशवृक्ष (फैमिल ट्री) का जिक्र किया जा रहा है। इस पोस्ट के माध्यम से यह दावा किया जा रहा है कि नेहरू परिवार के पूर्वज मुस्लिम थे। विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह पूरा दावा झूठा निकला है। नेहरू-गांधी परिवार के खिलाफ दुष्प्रचार की नीयत से यह फर्जी वंशावली वायरल की जा रही है। पूरी ख़ूबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Fact Check: सैनिक का यह इमोशनल वीडियो एक फिल्म का सीन है

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें भावुक होता एक सैनिक देखा जा सकता है। पोस्ट के साथ दावा किया जा रहा है कि यह असली घटना का वीडियो है। विश्वास न्यूज़ की पड़ताल में दावा गलत निकला। असल में यह एक फिल्म का सीन है। वायरल वीडियो में भावुक होता एक सैनिक देखा जा सकता है। पोस्ट के साथ लिखा है “Soldier says goodbye to family during war ”. पूरी ख़ूबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Fact Check: डेनमार्क के फुटबॉल खिलाड़ी क्रिस्टियन एरिक्सन कार्डिएक अरेस्ट की वजह से मैदान में हुए थे बेहोश, कोविड-19 वैक्सीन से इसका कोई संबंध नहीं

सोशल मीडिया पर डेनमार्क के फुटबॉल खिलाड़ी क्रिस्टियन एरिक्सन को लेकर एक दावा वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर कर दावा कर रहे हैं कि यूरो कप के दौरान अचानक मैदान पर बेहोश होने वाले इस फुटबॉल खिलाड़ी ने फाइजर की कोविड-19 वैक्सीन ली थी। एक तरह से फुटबॉलर की बेहोशी को वैक्सीन से जोड़ने की कोशिश की जा रही है। विश्वास न्यूज की पड़ताल में यह दावा झूठा निकला है। क्रिस्टियन कार्डिएक अरेस्ट की वजह से बेहोश हुए थे और अभी उनका कोविड वैक्सीनेशन नहीं हुआ है। पूरी ख़ूबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Quick Fact Check : कोल्‍ड ड्रिंक में इबोला वायरस की फर्जी पोस्‍ट फिर से वायरल

सोशल मीडिया में इबोला वायरस को लेकर एक फर्जी पोस्‍ट वायरल हो रही है। इसमें हैदराबाद पुलिस के हवाले से दावा किया जा रहा है कि कोल्‍ड ड्रिंक में इबोला वायरस मिला दिया गया है, इसलिए इसे न पिएं। विश्‍वास न्‍यूज ने पहले भी ऐसी पोस्‍ट की जांच की थी। हमारी पड़ताल में हमें पता चला कि वायरल पोस्‍ट पूरी तरह बेबुनियाद है। पूरी ख़ूबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Fact Check : सोनिया गांधी का पैर छूने वाला व्यक्ति कार्यकर्ता था न कि मनमोहन सिंह, वायरल पोस्ट फेक है

सोशल मीडिया में कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी की एक पुरानी तस्‍वीर फर्जी दावे के साथ वायरल हो रही है। इस तस्‍वीर में केसरिया पगड़ी पहने हुए एक शख्‍स को सोनिया गांधी का पैर छूते हुए देखा जा सकता है। यूजर्स दावा कर रहे हैं कि पैर छूने वाला यह शख्‍स और कोई नहीं, देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह हैं।

विश्‍वास न्‍यूज ने पहले भी इस तस्‍वीर की जांच की थी। हमारी पड़ताल में वायरल पोस्‍ट फर्जी साबित हुई। 29 नवंबर 2011 को दिल्‍ली में हुए युवा कांग्रेस के सम्‍मेलन में एक शख्‍स ने सोनिया गांधी का पैर छुआ था। तस्‍वीर उसी दौरान की है। उस तस्‍वीर को अब पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बताकर वायरल किया जा रहा है। पूरी ख़ूबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Quick Fact Check: मारपीट के वीडियो का आप के नेताओं से नहीं है कोई संबंध

सोशल मीडिया पर आम आदमी पार्टी (आप) को लेकर एक झूठा दावा वायरल हो रहा है, जिसमें कहा गया है कि आप की मीटिंग में नेता संजय सिंह और उनकी पार्टी के विधायक के बीच मारपीट हुई। हमारी पड़ताल में ये दावा पूरी तरह गलत साबित हुआ है। ये वीडियो संजय सिंह और आप विधायक के बीच मारपीट का नहीं है, बल्कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद और विधायक के बीच मारपीट का है। ये घटना 6 मार्च, 2019 को हुई थी। इसी को लेकर विश्वास न्यूज ने 12 मार्च, 2020 को भी एक रिपोर्ट पब्लिश की थी। पूरी ख़ूबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

Vishvas News जागरण न्यू मीडिया का एक आईएफसीएन सर्टिफाइड (IFCN Certified) फैक्ट चेकिंग ग्रुप है।

Edited By: Ruhee Parvez