नई दिल्ली, लाइवस्टाइल डेस्क। Why Hindi Diwas Is Celebrated On 14th September:  हिन्दी दिवस भारत में हर साल '14 सितंबर' को मनाया जाता है। हिन्दी विश्व में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाओं में से एक है। विश्व की प्राचीन, समृद्ध और सरल भाषा होने के साथ-साथ हिन्दी हमारी 'राष्ट्रभाषा' भी है। हिन्दी ने हमें दुनिया में एक नई पहचान दिलाई है। हम आपको बता दें कि हिन्दी भाषा विश्व में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली तीसरी भाषा है।

14 सितम्बर का दिन हम सभी हिंदी भाषियों के लिए बेहद खास होता है। स्कूल, कॉलेजों में सभाएं आयोजित कर हिंदी पर चर्चा-परिचर्चा की जाती है। दरअसल, 14 सितम्बर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया था।

14 सितंबर 1953 को पहली बार हिंदी दिवस मनाया गया था। इस दिन कई जगहों पर हिंदी भाषा की प्रगति के लिए और बच्चों में भाषा के प्रति रुचि विकसित करने के लिए तरह-तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। हिंदी भाषा के कई कवियों ने भी कविताएं लिखकर हिंदी के प्रति अपने प्रेम को प्रदर्शित किया है।

क्या आप जानते हैं कि हिंदी के साथ-साथ अंग्रेज़ी को भी राजभाषा का दर्जा दिया गया है। संविधान सभा ने 14 सितंबर 1949 को हिंदी को देश की राजभाषा के बनाया था। हिंदी के ऐतिहासिक महत्व को ध्यान में रखते हुए देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 14 सितम्बर को हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया। तभी से देश में प्रति साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

हिंदी दिवस देश में ही नहीं पूरी दुनिया में मनाया जाता है। हालांकि दुनिया के अलग देशों में हिंदी दिवस मनाने की तारीख अलग है। 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। पहला विश्व हिंदी सम्मेलन 10 जनवरी 1975 को नागपुर में आयोजित किया गया था जिसमें 30 देशों के 122 प्रतिनिधि शामिल हुए थे।

Posted By: Ruhee Parvez

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस