नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Yoga & Covid Anxiety: इस वक्त आप चाहे दुनिया के किसी भी कोने में हों, कोरोना वायरस महामारी और उससे होने वाले तनाव से बचे रहना बेहद मुश्किल है। पिछले साल UN ने कोविड-19 को महामारी घोषित किया था और इसके मामले तेज़ी से बढ़ने की वजह से दुनिया भर में लॉकडाउन लगाया गया। आज भी कई देशों में लॉकडाउन है, भारत में हाल ही में कुछ राज्यों ने कोविड-19 से जुड़े प्रतिबंध में कुछ ढील दी है। देश में पिछले दो महीने कोविड-19 ने लाखों लोगों की जान ले ली। अब मामले कुछ कम ज़रूर हुए हैं, लेकिन फिर भी तीसरी लहर का डर लोगों को सता रहा है।

महामारी में तनाव एक आम समस्या

पिछले एक साल में कई लोगों की जानें गईं, कई लोगों ने नौकरी गंवाई, तो कई अपनों से दूर हो गए। महामारी की दूसरी लहर में लोग न सिर्फ तेज़ी संक्रमित हो रहे थे, बल्कि उनके इलाज के लिए ऑक्लीजन, दवाएं, वेंटिलेटर और यहां तक कि अस्पतालों में जगह तक नहीं थी। इसके अलावा जो लोग कोविड से रिकवर हो रहे हैं, उन्हें दूसरी तरह की ख़तरनाक और जानलेवा बीमारियां हो रही हैं। ऐसे में माहौल में किसी का भी बेचैनी और तनाव का शिकार होना आसान है।

बेचैनी और तनाव में कैसे मदद करता है योग?

ऐसे माहौल में खुद का तनाव और बेचैनी कम करने के लिए आपको कुछ ज़रूरी कदम उठाने पड़ेंगे, जैसे- सोशल मीडिया से दूर रहना, अपने रोज़मर्रा के काम पहले जैसे करना, ताज़ा हवा में सांस लेना और रोज़ाना व्यायाम करना।

इसके अलावा योग भी चिंता और बेचैनी को दूर या कम करने के लिए एक आज़माया हुआ तरीका है। आजकल ज़्यादातर लोग घरों में ज़्यादा वक्त गुज़ार रहे हैं, घर से ही काम कर रहे हैं, और दूसरों से कम मिल रहे हैं, ऐसे में दिल को सुकून पहुंचाने के लिए योग करना एक फायदेमंद विकल्प होगा।

सांस लेने की प्रेक्टिस

आप योग की मदद से सांस से जुड़ा व्यायाम कर सकते हैं, जैसे गहरी सांसे लेना, जिसे करने से आपके दिल और दिमाग़ की मांसपेशियां रिलेक्स होती हैं। सांस से जुड़े कई तरह के योग हैं, जिन्हें आप थोड़ी-थोड़ी देर कर सकते हैं।

ध्यान करें

शरीर और मन को रिलेक्स करने के लिए आप ध्यान भी कर सकते हैं। इसे कम से कम आधे घंटे के लिए करें। शुरू में आपको दिक्कत आ सकती है, लेकिन एक बार शुरू करेंगे तो खुद इसके फायदे समझेंगे। लंबी अवधि में, योग का अभ्यास करने से मन-शरीर संबंध बनाने में मदद मिलती है जो इस बात को पुष्ट करता है कि वास्तव में दोनों पर हमारा कितना नियंत्रण है। चिंता और ख़ासतौर पर कोरोना वायरस के दौरान हो रही चिंता, आपको नियंत्रण से बाहर और असहाय देख पनपती है। इस दौरान ज़्यादा चिंता करने से आप बिना संक्रमित हुए ही बीमार पड़ जाएंगे या अगर आप कोविड पॉज़ीटिव हैं, तो ये आपका स्वस्थ होना मुश्किल कर देगी।

समय के साथ योग आपको उस नियंत्रण की भावना को दोबारा हासिल करने में मदद कर सकता है। आपके दिमाग़ और शरीर को तेज़ करने में मदद कर सकता है। इसके बाद आप जब भी बेचैनी या तनाव महसूस करेंगे, तो इन लम्हों को बेहतर तरीके से मैनेज कर पाएंगे।

घर पर रह कर करें योग

इस वक्त योगा क्लासेज़ जाना सुरक्षित नहीं होगा, लेकिन आप इसे घर पर रह कर भी कर सकते हैं। याद रखें कि योग उतना ही मन के बारे में है जितना कि शरीर। यह एक बेहतरीन तरह की एक्सरसाइज़ हैं, लेकिन आप इसके फायदे महसूस नहीं करेंगे, अगर खुद पर इसे करने का ज़ोर डालेंगे। आसन वहीं करें जो आसानी से हो पाएं। हर आसन पर फोकस करें और उसे सही तरीके से करें। आसनों को करते समय सही तरीके से सांस लेना भी ज़रूरी है। योग आपके दिल, दिमाग़ और शरीर को आराम पहुंचाने के लिए बना है, अतिरिक्त तनाव पैदा करने के लिए नहीं। योग के ज़रिए सुकून और आराम हासिल करने के लिए आपको खुद को कुछ समय देना होगा।