नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Covid-19 & Swine Flu Co-infection: भारत में मानसून ने दस्तक देनी शुरू कर दी है, इसके साथ ही इस बात की संभावना बढ़ गई है कि अब कोरोना वायरस और ह्यूमन इंफ्लूएंज़ा-ए यानी स्वाइन फ्लू एक साथ संक्रमण फैला सकते हैं, डॉक्टर्स भी इस बात को नकार नहीं रहे हैं। 

चीन में भी एक ऐसा मामला सामने आया है, जहां एक मरीज़ के टेस्ट में कोविड-19 के साथ स्वाइन फ्लू पॉज़ीटिव भी पाया गया है। जिसकी वजह से डॉक्टर्स को काफी मुश्किल आ रही है। भारत के दक्षिण इलाकों में स्वाइन फ्लू एक स्थानीय बीमारी है, और अब ये कोरोना वायरस के साथ मिलकर लोगों को संक्रमित कर सकती है। डॉक्टरों ने देखा है कि ये दोनों वायरस एक मरीज़ के शरीर में एक साथ रह सकते हैं, इसलिए इसका पता लगाने के लिए दो अलग टेस्ट करनवाने होंगे।

  

CDC द्वारा प्रकाशित 'जर्नल ऑफ इमर्जिंग डिज़ीज़' के हाल ही के इशू में एक ऐसे मामले के बारे में बताया था, जिसमें निमोनिया के एक बुज़ुर्ग मरीज़ कोरोना वायरस और स्वाइन फ्लू दोनों से संक्रमित पाया गया था। हालांकि, भारत में अभी तक ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है, जिसमें एक मरीज़ स्वाइन फ्लू के साथ कोरोना वायरस से भी संक्रमित पाया गया हो, लेकिन लोकल डॉक्टर्स का मानना है कि ऐसे मामले आ सकते हैं। डॉक्टर्स के अनुसार ऐसा कई बार देखा गया है कि एक मरीज़ चिकनगुनिया के साथ डेंगू से भी पीड़ित हो। 

इसलिए उनका कहना है कि कोविड-19 के साथ स्वाइन फ्लू का भी टेस्ट होना चाहिए। 

कैसे होगा दोहरे संक्रमण का इलाज

अच्छी बात ये है कि, कोविड-19 और स्वाइन फ्लू दोनों का इलाज नहीं है और मरीज़ों का इलाज लक्षणों के अनुसार किया जाता है। इसका मतलब ये हुआ कि दोहरे संक्रमण में इलाज में किसी तरह का बदलाव नहीं आएगा। मेडिसिन के एक्सपर्ट डॉक्टर जे. अनीष आनंद का कहना है, " क्योंकि पूरी दुनिया में अभी तक कोरोना वायरस और स्वाइन फ्लू के दोहरे संक्रमण के बड़े मामले नहीं आए हैं, इसलिए इस बात को लेकर घबराने की ज़रूरत नहीं है।" 

Posted By: Ruhee Parvez

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस