नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। मोटापा तेज़ी से बढ़ने वाली ऐसी बीमारी है जो ना सिर्फ पर्सनालिटी को भद्दा बनाती है, बल्कि सेहत को भी नुकसान पहुंचाती है। WHO के मुताबिक पूरी दुनिया में 1.9 अरब लोग मोटापे के शिकार हैं। मोटापा की वजह से शुगर, ब्लड प्रेशर, दिल की बीमारी और थायराइड जैसी बीमारियां होती हैं। हर साल 40 लाख लोगों की मौत मोटापा के कारण ही होती है। लोग बढ़ते मोटापा को कंट्रोल करने के लिए कई तरह की कार्डियो एक्सरसाइज करते हैं डाइट कंट्रोल करते हैं, तब भी मनचाही बॉडी हासिल नहीं कर पाते। आप जानते हैं मोटापा कम करने में दो कार्डियो एक्सरसाइज दौड़ना और रस्सी कूदना बेहद असरदार हैं। अब सवाल यह उठता है कि इन दोनों एक्सरसाइज में वज़न को कंट्रोल करने में कौन सी ज्यादा असरदार है।

दोनों एक्सरसाइज में कौन सी वज़न करेगी कंट्रोल:

दौड़ना और रस्सी कूदना दोनों असरदार एक्सरसाइज हैं। दोनों से बॉडी में सहन शक्ति की क्षमता बढ़ती है, साथ ही हार्ट के मसल्स मजबूत होते हैं। दोनों एक्सरसाइज को करने से वेट और बोन डेंसिटी मेनटेंन रहती हैं। इन्हें करने से ना सिर्फ वज़न कंट्रोल होता है बल्कि उम्र में भी इज़ाफा होता है। यह एक्सरसाइज ऑवरऑल फिटनेस को दुरुस्त रखती है। आइए जानते हैं इन दोनों एक्सरसाइज में मोटापा को कंट्रोल करने में कौन सी एक्सरसाइज असरदार है।

रस्सी कूदने और दौड़ने के फायदे

क्या रस्सी कूदने से वज़न कंट्रोल हो सकता है?

अगर आप जल्दी कैलोरी को घटाना चाहते हैं, तो रस्सी कूदना आपके लिए बेस्ट ऑप्शन है। एक मिनट के रनिंग में 10 से 16 कैलोरी बर्न होती है, जबकि आप रस्सी कूदके 3 मिनट से लेकर 10-10 मिनट का सेट करते हैं, तो आधे घंटे रस्सी कूदने से 480 कैलोरी एनर्जी बर्न करते हैं। तेजी से वजन घटाने के लिए रस्सी कूदना ज्यादा बेहतर है।

रस्सी कूदने से पेट की चर्बी जल्दी घटती है, साथ ही हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट डिजीज की समस्या को कम करती है। हल्के और बार-बार रस्सी कूदने से आपके घुटनों पर कम दबाव पड़ता है। इससे स्टेमिना मजबूत होता है और बॉडी में स्फूर्ति आती है।

दौड़ने के फायदे:

हल्का या मॉडरेट दौड़ने से बॉडी में इंडॉर्फिन और सेरेटोनिनन केमिकल रिलीज होता है जिससे तनाव और बेचैनी का स्तर कम होता है। रनिंग का सबसे ज्यादा असर मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है। दौड़ने से चिंता, अवसाद, अकेलापन, सामाजिक अलगाव जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। दौड़ने से आपको नींद अच्छी आती है, फेफेड़ों की सफाई होती है। दौड़ने से सांस लेने वाले मसल्स भी मजबूत होते हैं। 

Edited By: Shahina Noor