नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोविड का नया संस्करण ओमीक्रोन दुनिया भर में चिंता का कारण बन गया है। इसे पिछले वेरिएंट्स की तुलना में तेज़ी से फैलने वाला स्ट्रेन माना जा रहा है। इस नए संस्करण के बारे में सभी को सतर्क करने वाली दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टर ने खुलासा किया कि जिन रोगियों का उन्होंने इलाज किया उनमें अपरिचित लक्षण देखने को मिले थे। हालांकि, लक्षण हल्के थे और उसके मरीज बिना अस्पताल में भर्ती हुए पूरी तरह से ठीक हो गए। साउथ अफ्रीकन मेडिकल एसोसिएशन की अध्यक्ष एंजेलिक कोएट़्ज़ी ने बताया कि उन्होंने पिछले 10 दिनों में लगभग ऐसे 30 रोगियों को देखा, जो कोविड पॉज़ीटिव पाए गए, लेकिन उनमें अपरिचित लक्षण थे।

क्या हैं ओमीक्रोन वैरिएंट के लक्षण?

डॉक्टर ने बताया कि ओमीक्रोन रोगियों में लक्षण के तौर पर अत्यधिक थकान, मांसपेशियों में हल्का दर्द, गले में ख़राश और सूखी खांसी जैसे लक्षण दिखाई दिए। इनमें से कुछ के शरीर का तापमान थोड़ा बढ़ा हुआ था। कोएट्ज़ी ने स्वास्थ्य अधिकारियों को सचेत किया था कि नैदानिक ​​तस्वीर दक्षिण अफ्रीका के प्रमुख संस्करण डेल्टा की नहीं लग रही थी। उस समय तक, वैज्ञानिक पहले ही संस्करण को उठा चुके थे और उस पर काम कर रहे थे।

कोएट्ज़ी ने कहा कि हम यह नहीं कह रहे हैं कि इस वैरिएंट की वजह से गंभीर बीमारी नहीं होगी, लेकिन अभी तक जो मामले सामने आए हैं, उन मरीज़ों को वैक्सीन नहीं लगी थी फिर भी लक्षण हल्के ही थे। मुझे यक़ीन है कि युरोप में कई लोग वायरस के इस स्ट्रेन से संक्रमित हो चुके हैं। कोएट़्ज़ी ने जिन मरीज़ों का इलाज किया उनमें ज़्यादातर 40 साल की उम्र से कम के पुरुष थे, जिनमें से आधों को ही वैक्सीन लगी थी।

इस नए वैरिएंट के आने से कई देशों ने दक्षिण अफ्रीका से आने वाले यात्रियों पर बैन लगा दिया है। भारत में भी बोस्ट्सवाना, दक्षिण अफ्रीका और हांगकांग से आने वाले यात्रियों पर नज़र रखी जाएगी।

Edited By: Ruhee Parvez