नई दिल्ली, लाइफस्टाइ डेस्क। जिस तेजी के साथ कोरोना महामारी का कहर बढ़ता जा रहा है, उसी तेजी के साथ कोरोनावायरस के कारनामे भी बढ़ते जा रहे हैं। शुरुआत में बुखार, खांसी, सर्दी-जुकाम इसके लक्षण थे। इसके बाद उल्टी आना, स्वाद का चला जाना भी इसके लक्षण में शुमार हुआ। वक्त के साथ-साथ कोरोना के लक्षण बढ़ते जा रहे हैं। किंग्स कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों ने हाल ही के अपने अध्ययन के आधार पर लोगों को आगाह किया है कि बच्चों में भूख की कमी भी कोरोना संक्रमण को दावत दे सकती है। अध्ययन के अनुसार ब्रिटेन में जितने बच्चों को कोरोना हुआ, उनमें से एक तिहाई बच्चों में भूख की कमी का लक्षण पाया गया। वैज्ञानिकों ने अभिभावकों को सावधन करते हुए कहा है कि अगर आपका बच्चा स्कूल से टिफिन को वापस ला रहा है, तो उसपर तुरंत ध्यान दें, और उसका कोरोना टेस्ट कराएं। स्कूल जाने वाले एक तिहाई संक्रमित बच्चों में देखा गया कि वे स्कूल से टिफिन को वैसे ही ले आते थे। घर पर भी वे खाना नहीं खाते थे।

इन बच्चों में कोविड-19 के आम लक्षण नहीं मिले

इस अध्ययन को करने के लिए किंग्स कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं ने स्कूल जाने की उम्र वाले कुछ संक्रमित बच्चों को मोबाइट एप से ट्रैक किया। उन्होंने पाया कि कोरोना संक्रमित ज्यादातर बच्चों में वायरस संक्रमण के आम लक्षण जैसे कि खांसी, बुखार, स्वादहीनता, सर्दी आदि के लक्षण नहीं थे।

अध्ययन में कहा गया कि कोरोना संक्रमित 52 प्रतिशत बच्चों में कोरोना के आम लक्षण नहीं मिले। इसके बजाय उनमें भूख नहीं लगने की बीमारी लग गई। साथ ही ऐसे मरीजों में सिर दर्द और थकान के भी लक्षण देखे गए। मोबाइल एप के अध्ययन में यह भी देखा गया कि कोरोना संक्रमित इन बच्चों की स्किन में बेतरतीब तरीके से रेशेज आ गए थे, जिसमें इतनी खुजली थी कि बच्चों ने इसे फोड़ दिया।

संक्रमित करीब छह में से एक बच्चों को स्किन की यह समस्या थी। वर्तमान में डॉक्टर यही सलाह देते हैं कि अगर बच्चों को बुखार, लगातार सर्दी-खांसी और स्वाद नहीं लगता तो उसका कोरोना टेस्ट कराएं। लेकिन नए अध्ययन में कोरोना के लक्षणों में कुछ और चीजें जोड़नी होंगी।

अब तक 20 लक्षणों की खोज

जैसे-जैसे कोविड-19 के बारे में पता चलता जा रहा है, वैसे-वैसे डॉक्टर और वैज्ञानिक लगातर कोरोना के लक्षणों में इजाफा करते जा रहे हैं। किंग्स कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों ने अब तक कोविड-19 संक्रमण के 20 लक्षणों की खोज कर चुके हैं। वैज्ञानिकों की टीम कोविड-19 सिंपटम ट्रैकर मोबाइल एप के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लक्षणों की खोज करने में जुटे हैं।  

         Written By: Shahina Noor

Posted By: Shilpa Srivastava

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस