नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Living With Coronavirus: कोरोना वायरस से खुद बचाने के लिए हमारा हर दिन कई तरह की जानकारियां से सामना होता है। इसके बावजूद हमारी रोज़मर्रा की ज़िंदगी से जुड़े ऐसे कई सवाल हैं, जिनके जवाब या तो मिले नहीं हैं या फिर साफ नहीं हैं। फलों औरसब्ज़ियों को सैनिटाइज़ करना ज़रूरी है जैसे सवाल से रुपयों को कैसे सैनीटाइज़ किया जाए तक, जैसे कोरोना वायरस से जुड़े हज़ारों सवाल हैं, जिनके जवाब अभी तक नहीं मिले हैं।   

क्या सब्ज़ियों और फलों को साफ करने का सही तरीका क्या है?

एक्सपर्ट्स की मानें, तो वायरस फलों और सब्ज़ियों पर कुछ घंटे एक्टिव रहता है, लेकिन अगर उन्हें धूप या गर्म तापमान में रखा जाए तो इससे आपको मदद मिल सकती है। ध्यान रहे कि सब्ज़ियां और फलों को घर लाते ही इस्तेमाल न करें। कम से कम 4 घंटों के लिए पैकेट को साइड में रखें। इन 4 घंटों में, इनको पैकेट से निकाले और फिर गुनगुने पानी में बेकिंग सोडा डालकर भिगो कर रख दें। सब्ज़ियों और फलों पर सैनीटाइज़र का इस्तेमाल बिल्कुल न करें। सैनीटाइज़र सिर्फ हमारे शरीर के साथ स्टील या मेटल की चीज़ों पर इस्तेमाल के लिए बना है। 

इसके अलावा आप पानी में पोटैशियम परमैंगनेट की कुछ बूंदे मिलाकर फल और सब्ज़ियों को धो सकते हैं। चीज़, दूध और मक्खन जैसी चीज़ों को 4 घंटे के लिए बाहर नहीं रखा जा सकता। इन्हें ज़्यादा देर फ्रिज से बाहर रखने से ये चीज़ें खराब हो जाती है। ऐसे में बाहर के पैकेट को साबुन के पानी से धोएं और सामान निकालकर पैकेट को तुरंत फेंक भी दें।

प्लास्टिक बोतल को कैसे सैनिटाइज़ करें?

लैब टेस्ट में साफ हुआ है कि कोरोना वायरस प्लास्टिक और मेटल पर 24-48 घंटों तक रहता है। इसलिए ऐसे चीज़ों को तुरंत फ्रिज में न रखें। कुछ देर इसे ऐसी जगह रखें जहां कोई न जाता हो। इसके बाद इसे साबुन के पानी या सैनिटाइज़र से साफ करने के बाद ही फ्रिज में रखें।

बाहर से ऑर्डर किया गया खाना

बाहर के खाने के साथ दिक्कत खाना नहीं है, बल्कि उसे किस तरह पैक और फिर लाया गया है, यह मुश्किल पैदा कर सकता है। अगर खाना अच्छी तरह पकाया गया है, तो वायरस उसमें ज़िंदा नहीं रहेगा। लेकिन खाना बनाने, उसे पैक करने और फिर आप तक पहुंचाने में कई लोग शामिल होते हैं।

अगर आपने खाना बाहर से ऑर्डर किया है, तो सबसे पहले उसकी पैकिंग को फेंके। अगर बॉक्स प्लास्टिक का है, तो उसे साबुन से अच्छी तरह धोएं।

दवाइयों के पैकेट

अभी तक ये साफ नहीं हुआ है कि सैनिटाइज़र दवाइयों के पैकेट पर काम करता है या नहीं। जब आप नई दवाइयां खरीदते हैं, तो इसे बंद डिब्बे में कई घंटों के लिए कमरे के तापमान में रखें। ध्यान रखें कि दवाइयों को सीधे धूप में न रखें, इससे ये खराब हो सकती हैं। 

रुपयों को कैसे सैनिटाइज़ करें

स्टेशनरी और रूपयों को 3-4 घंटों के लिए बाहर रखें क्योंकि इन पर सैनीटाइज़र का इस्तेमाल नहीं हो सकता। हालांकि, पेंसिल, पेन, प्लास्टिक और लकड़ी पर आप सैनिटाइज़र का इस्तेमाल कर सकते हैं।

जूते और कपड़े

आप घर से बाहर जो जूते पहनते हैं, उन्हें बाहर ही रहना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि ये भी हो सकता है कि आपने अंजाने में संक्रमित व्यक्ति की छींक या खांसी से निकलीं बूंदों पर पैर रखा हो।  

इसलिए जब आप घर वापस आएं, तो अपने कपडों को गुनगुने पानी में भिगोएं और साबुन से अच्छी तरह धोएं। अगर आप नए कपड़े लेकर आए हैं, तो उन्हें कम से कम 48 घंटों तक बालकनी या आंगन में रख दें। इन्हें पहनने से पहले ज़रूर धो लें। 

अगर आप जल्द ही ऑफिस जाने वाले हैं, तो इन बातों का ख्याल ज़रूर रखें:

- अपने साथ ग्लास, बोतल, कप और चम्मच रख लें। कैंटीन या ऑफिस किचन से कोई भी सामान का इस्तेमाल न करें। 

- अपने फोन का चार्जर या पॉवर बैंक साथ लेकर चलें, ताकि आपको किसी और का इस्तेमाल न करना पड़े।

- सैनिटाइज़र की बॉटल और वाइप्स साथ रखें। काम शुरू करने से पहले डेस्क और लैपटॉप को सैनिटाइज़ कर लें।

- लिफ्ट के बटन, रलिंग, डोरनॉब्ज़ और ऐसी सतह जिन पर आमतौर पर हाथ जाता है, उन्हें छूने से बचें। और अगर आपका हाथ चला जाता है तो फौरन हाथों को धोएं।

- जब आप घर वापस आएं, तो अपनी सभी चीज़ों को सैनिटाइज़ या धोएं। फौरन नहाएं। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021