नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोना काल में सेहतमंद रहना बड़ी चुनौती है। यह चुनौती उनलोगों के लिए और कठिन हो जाती है, जिन्हें डायबिटीज, उच्च रक्तचाप और अस्थमा की शिकायत होती है। इसके अलावा, बदलते मौसम में भी सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इसके लिए सेहतमंद रहना बहुत ही जरूरी है। खासकर डायबिटीज के मरीजों को स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देना चाहिए। विशेषज्ञों की मानें तो डायबिटीज में ब्लड शुगर कंट्रोल करना सबसे मुश्किल टास्क होता है। यह एक लाइलाज बीमारी है, जो ताउम्र साथ रहती है। इस बीमारी में दवा के साथ परहेज की जरूरत पड़ती है। साथ ही खानपान पर भी ध्यान देना पड़ता है। अगर आप भी डायबिटीज के मरीज हैं और ब्लड शुगर कंट्रोल में रखना चाहते हैं, तो आप अपनी डाइट में केल को शामिल कर सकते हैं। कई शोध में इसका खुलासा हुआ है कि केल शुगर कंट्रोल करने में मददगार है। आइए, इसके बारे में सब कुछ जानते हैं-

केल क्या है

पत्ता गोभी, ब्रोकली की तरह केल भी एक पत्तेदार सब्जी है। यह गोभी के परिवार का सदस्य है। चिकित्सा क्षेत्र में केल को दवा की तरह इस्तेमाल किया जाता है। डॉक्टर हमेशा डायबिटीज समेत मोटापा के मरीजों को केल खाने की सलाह देते हैं। खासकर डायबिटीज में यह विशेष फलदायी है। विशेषज्ञ का कहना है कि रोजाना केल का सेवन करने से डायबिटीज में बहुत आराम मिलता है। इसमें कई आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए बेहद लाभदायक माने जाते हैं। इसके लिए अपनी डाइट में केल को जरूर शामिल करें।

एनसीबीआई में छपी एक शोध के अनुसार, केल डायबिटीज के मरीजों के लिए दवा समान है। इसके सेवन से शर्करा स्तर कम होता है। इस बात की पुष्टि शोध से होती है। इस शोध में 42 जापानी लोगों को शामिल किया गया था, जिनकी आयु 21 वर्ष से लेकर 64 वर्ष थी। इन लोगों का शर्करा स्तर मापा गया। इस शोध में प्रत्येक व्यक्ति को 7 से 14 ग्राम केल खाने की सलाह दी गई थी। जब शुगर को मापा गया तो, उसमें कमी पाया गया। इसके लिए डॉक्टर डायबिटीज के मरीजों को डाइट में कम से कम 7 ग्राम केल रोजाना शामिल करने की जरूरत देते हैं। डायबिटीज के मरीजों को अपनी डाइट में केल को जरूर शामिल करना चाहिए।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021