दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Jagran Dialogues: त्योहारों का सीजन शुरू हो चुका है। इस सीजन में पहनावा-ओढ़ावा से लेकर सभी प्रकार की चीजों की खरीदारी हेतु बाजारों में भीड़ बढ़ जाती है। इस दौरान लोगों द्वारा कोरोना नियमों का पालन न करने से कोरोना संक्रमण बढ़ सकता है। कोरोना वायरस पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। इसके लिए कोरोना नियमों का पालन सख्ती से करें। जानकारों की मानें तो वर्तमान समय में सुरक्षा व्यक्ति के हाथ में है। सरकार महामारी को रोकने के लिए सख्ती से कदम उठा रही है। साथ ही लोगों को भी जिम्मेदारी लेनी होगी और कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सावधानियां बरतनी होगी। तब जाकर कोरोना वायरस के संक्रमण से हम सभी सुरक्षित रह सकते हैं। कोरोना वायरस से बचाव के लिए तीन सरल उपायों का पालन करें। अनावश्यक घर से बाहर न निकलें। वहीं, घर से बाहर जाते समय मास्क पहनकर निकलें, शारीरिक दूरी का पालन करें, साफ-सफाई का ख्याल रखें। साथ ही अपनी बारी आने पर वैक्सीन जरूर लगवाएं। इसके अलावा, अन्य लोगों को भी कोरोना नियमों का पालन करने और टीका लगाने की सलाह दें। हालांकि, लोगों के मन में कोरोना वायरस को लेकर कई तरह के सवाल हैं। सबसे बड़ा सवाल यह है कि त्योहारों के सीजन में कोरोना वायरस के संक्रमण से कैसे सुरक्षित रहें-

Jagran Dialogues के लेटेस्ट एपिसोड में जागरण न्यू मीडिया के Executive Editor Pratyush Ranjan ने "क्या त्योहारों के दौरान कोरोना का खतरा है ज्यादा? कैसे रहें सुरक्षित इस महामारी से" इसी मुद्दे पर उत्तर प्रदेश में राज्य राज्य निगरानी अधिकारी Dr.Vikasendu Agarwal से बातचीत की। Jagran Dialogues की Covid-19 से जुड़ी सीरीज का आयोजन स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ मिलकर किया जा रहा है। आइए, इस वर्चुअल प्रश्नावली और बातचीत के बारे में विस्तार से जानते हैं-

1. सवाल:- त्योहारों का सीजन शुरू होने वाला है। इन दिनों बाजार में काफी चहल पहल रहती है। हमने ऐसा देखा है कि लोग टीका लेने और कोरोना मामले घटने के बाद मास्क नहीं पहन रहे हैं। त्योहारों के सीजन में बाजार में भीड़ बढ़ रही है और आगे भी बढ़ेगी। ऐसे में Covid Appropriate Behaviour का पालन करना कितना जरूरी है-

जबाव:- Dr. Vikasendu ने आभार प्रकट करते हुए कहा कि हमें यह ध्यान रखना होगा कि कोरोना के मामले कम हुए हैं, लेकिन कोराना वायरस का खतरा खत्म नहीं हुआ है। वहीं, कोरोना वायरस की तीसरी लहर का जो अंदेशा है, वो बरकरार है। अगले कुछ महीने बेहद खास हैं। किसी को नहीं पता है कि आने वाले समय में यह किस तरह से पेश आएगा। कई देशों में कोरोना संक्रमितों की संख्या में इजाफा हो रहा है। हमारे देश के कई प्रदेशों में भी कोरोना संक्रमितों की संख्या में वृद्धि हुई है। इसके लिए हमें ध्यान रखना है कि कोरोना खत्म नहीं हुआ है, तो कोरोना नियमों का सख्ती से पालन करें। दूसरी बात-कोरोना के प्रसार को रोकना शत-प्रतिशत जनता के अपने हाथ में है। Covid Appropriate Behaviour का प्रचार-प्रसार विभिन्न माध्यमों से लंबे समय से किया जा रहा है और जनता को भी यह बात अच्छी तरह से पता है कि कोरोना से बचना है तो मास्क का इस्तेमाल करना है। बाजार में सामाजिक दूरी बनाकर रखना है। हाथों को बार-बार धोना है। घर में अगर कोई खांसी या बुखार का मरीज है, तो उसका तत्काल इलाज करवाएं। Covid Appropriate Behaviour का निरंतर फॉलो करना जरूरी है। साथ ही टीका जरूर लगवाएं। ज्यादातर देशों की रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है कि कोरोना वैक्सीन के एक डोज लेने के बाद कोरोना जानलेवा नहीं रह जाता है। इसकी संभावना है कि टीका लेने के बाद ही कोरोना हो जाए, लेकिन यह जानलेवा नहीं होगा। साथ ही अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता कम होगी।

2. सवाल:- बच्चों की वैक्सीन का इंतजार है, ऐसे समय में बच्चों की गतिविधि पर पाबंदी लगानी या त्योहार के समय भीड़-भाड़ वाले जगह पर ले जाना क्या ठीक होगा?

जबाव:- Dr.Vikasendu ने कहा-वर्तमान में जो स्थिति है। उसमें जिन लोगों को बाहर निकलना बेहद जरूरी है। उन्हें ही बाहर निकलना चाहिए। वहीं, पर्व, त्योहार और उत्स्व घर में अपने परिवार के साथ मनाएं। घर से बाहर निकलने की कम कोशिश करें और बाहर के लोगों के बजाय घर के लोगों के साथ मनाएं। बच्चों और बुजर्गों की सुरक्षा के लिए यह आवश्यक है कि आप कोरोना नियमों का पालन कर घर से बाहर निकलें। बच्चों को अभी टीका नहीं लगा है और बुजुर्गों को संकम्रण का खतरा अधिक रहता है। इसके लिए दोनों वर्ग के लोगों की सुरक्षा अनिवार्य है। साथ ही आप अपना भी विशेष ख्याल रखें।

3. सवाल:- त्योहारों में लोगों को क्या सावधानी बरतनी चाहिए? अगर घर में मेहमान आए, तो किस तरह की सावधानी रखनी चाहिए-

जबाव:- Dr.Vikasendu ने कहा कि आपने बहुत सही और प्रासंगिक सवाल किया है। बिना किसी संकोच के आप घर आने वाले मेहमानों को सबसे पहले हाथ और मुंह धोने की सलाह दें। साथ ही जब आप हाथ मिलाएं, या दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आते हैं, तो अपने हाथों को सैनिटाइज जरूर करें। आप चाहे तो साफ पानी से हाथों को धो सकते हैं। वहीं, शारीरिक दूरी का पालन घर के अंदर भी करें। घर में भी दो गज की दूरी पर बैठें। इसके अलावा, घर आने वाले मेहमानों को मास्क लगाने की भी हिदायत दें और आप भी मास्क जरूर लगाएं।

4. सवाल:- त्योहारों में बाहर जाना हो तो किस तरह की बातों का ध्यान रखना चाहिए?

जबाव:- इस सवाल के जबाव में मैं सलाह देना चाहूंगा कि अगर आपको बाहर जाना बेहद जरूरी है, तो ही बाहर जाएं। वहीं, घर से बाहर निकलते समय मास्क जरूर लगाएं। अगर किसी जगह पर भीड़भाड़ है, तो अपनी बारी का इंतजार कर लें। जब भीड़ कम हो जाए, उसके बाद खरीदारी करें और शारीरिक दूरी का पालन करें।

5. सवाल:- क्या खाने की चीजों से कोरोना होता है?

जबाव:-  Dr.Vikasendu ने कहा-आप जब कभी बाहर खाने के लिए जाएं, तो ऐसे जगहों का चयन करें। जहां पर दुकानदार और उस दुकान में काम करने वाले लोगों द्वारा कोरोना नियमों का सख्ती से पालन किया जा रहा है। भीड़भाड़ जगहों पर बिल्कुल न जाएं।

6. सवाल:- Covid-19 से ठीक हुए लोगों में किस तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं ज्यादा देखी गयी है और ऐसी समस्याएं क्यों देखे जा रही हैं ?

जबाव:- Dr.Vikasendu ने इस सवाल का जबाव देते हुए कहा कि कोरोना से रिकवरी के बाद, कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने या दस दिनों तक कोरोना के लक्षण नहीं दिखने पर ऐसा माना जाता है कि आप स्वस्थ हो चुके हैं। इसके बाद भी एक हफ्ते तक व्यक्ति को घर पर रहना चाहिए। साथ ही आइसोलेशन के नियमों का पालन करें। दूसरी बात यह है कि कोरोना से प्रभावित लोगों में कई तरह के लक्षण देखने को मिलते हैं। इनमें सबसे प्रमुख श्वसन संबंधी समस्या है। साथ ही सांस फूलने की भी परेशानी होती है। इस तरह की समस्या देखने को मिल रहे हैं। अगर कोरोना रिकवरी के बाद भी आपको सांस संबंधी परेशानी है, तो नजदीक के किसी वरिष्ठ डॉक्टर से संपर्क करें।

यहां देखें पूरा वीडियो-

Edited By: Pravin Kumar