नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Norovirus vs Coronavirus: कोरोना वायरस महामारी के बीच, वायरस का एक अत्यधिक संक्रामक समूह, नोरोवायरस सुर्खियों में रहा है। इंग्लैंड में अब तक नोरोवायरस के लगभग 154 मामले सामने आ चुके हैं। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के अनुसार, नोरोवायरस के लक्षणों में दस्त, उल्टी, मतली और पेट दर्द शामिल हैं।

क्या कोरोना वायरस से ज़्यादा ख़तरनाक है नोरोवायरस?

CDC के मुताबिक, नोरोवायरस अत्यधिक संक्रामक वायरस का एक समूह है जो उल्टी और दस्त का कारण बनता है। इसे विंटर वॉमिटिंग बग भी कहा जाता है। नोरोवायरस से संक्रमित लोग अरबों वायरस कणों को फैला सकते हैं, लेकिन उनमें से कुछ ही लोगों को बीमार कर सकते हैं। सीडीसी के मुताबिक, नोरोवायरस कोविड-19 की तुलना ज़्यादा ख़तरनाक बीमारी है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह बहुत तेज़ी से फैलता है।

नोरोवायरस से कैसे संक्रमित हो सकते हैं?

नोरोवायरस उस व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है, जो दूषित भोजन या पानी का सेवन करता है या फिर किसी दूषित सतह को छूता है और फिर वही दूषित हाथ मुंह के संपर्क में आ जाते हैं। संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने वाला व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है। यह वायरस वैसे ही फैलता है जैसे बाकी वायरस मनुष्य के संपर्क में आते हैं।

क्या कोई व्यक्ति नोरोवायरस से एक से ज़्यादा बार संक्रमित हो सकता है?

CDC के मुताबिक, नोरोवायरस कई तरह के होते हैं और अगर एक व्यक्ति किसी एक तरह के नोरोवायरस से संक्रमित होता है, तो उसे बाकी सभी तरह के नोरोवायरस से इम्यूनिटी नहीं मिलती। यानी एक व्यक्ति कई बार नोरोवायरस से संक्रमित हो सकता है।

संक्रमण को रोकने से कैसे रोका जा सकता है?

स्वच्छता का पालन करना इस वायरस को फैलने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है। टॉयलेट का इस्तेमाल करने के बाद, दूषित सतह को छूने के बाद, खाना खाने से पहले, डायपर बदलने के बाद या फिर खाना बनाने से पहले हाथों को धोना ज़रूरी है।

नोरोवायरस का इलाज

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, नोरोवायरस के लिए कोई ख़ास दवा नहीं है। इस बीमारी में क्योंकि दस्त और उल्टी जैसे लक्षण होते हैं, इसलिए तरल पदार्थ खूब पीने चाहिए, ताकि शरीर में पानी की कमी न हो।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।