दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Turnip Benefits: खराब दिनचर्या, गलत खानपान, तनाव और अत्यधिक आलस की वजह से डायबिटीज की बीमारी बड़ी तेजी से अपने पैर पसार रही है। इसके मरीजों की संख्या में रोजाना इजाफा हो रहा है। विश्व मधुमेह संघ की मानें तो भारत में मरीजों की संख्या दुनियाभर में सबसे अधिक है। इसके लिए भारत को डायबिटीज की राजधानी कहा जाता है। जानकारों की मानें तो डायबिटीज रक्त में शर्करा स्तर के बढ़ने और अग्नाशय से इंसुलिन हार्मोन न निकलने के चलते होती है। इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को मीठे चीजों को खाने की मनाही रहती है। अतः डायबिटीज के मरीजों को खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। साथ ही रोजाना एक्सरसाइज जरूर करनी चाहिए। इससे शुगर कंट्रोल में रहता है। अगर आप भी डायबिटीज के मरीज हैं और शुगर कंट्रोल में रखना चाहते हैं, तो डाइट में शलजम को जरूर शामिल करें। कई शोधों में किया गया है कि शलजम के सेवन से शुगर कंट्रोल में रहता है। शलजम में कई आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शुगर कंट्रोल करने में सहायक होते हैं। आइए, इसके बारे में सबकुछ जानते हैं-

शलजम

अंग्रेजी में शलजम को Turnip कहा जाता है। वहीं, शलजम का वानस्पतिक नाम Brassica rapa है। यह एक कंद है। इसकी सब्जी बनाई जाती है। भारत के सभी हिस्सों में शलजम की खेती की जाती है। इसमें आवश्यक पोषक तत्व पोटेशियम, मैग्नीशियम, एंटीऑक्सीडेंट, पॉली न्यूट्रिएंट्स मैंगनीज, कैल्शियम, पॉलीफेनोल्स और एंटी इंफ्लेमेटरी के गुण पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए वरदान साबित होते हैं। इसके सेवन से मधुमेह समेत कई अन्य बीमारियों में फायदेमंद होता है। एंटी डायबिटीज गुण के चलते यह शुगर के मरीजों के लिए कारगर साबित होता है।

कई शोधों में दावा किया गया है कि फाइबर की वजह से यह ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा को कंट्रोल या कम करने में मददगार साबित होता है। साथ ही यह बढ़ते वजन को भी कंट्रोल करने में सहायक है। फाइबर युक्त चीजों के खाने से पेट देर तक भरा रहता है। इसके लिए मधुमेह और मोटापा के मरीजों को शलजम का सेवन जरूर करना चाहिए।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Edited By: Pravin Kumar