नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। भारत में लोग चाय पीने के बेहद शौकीन हैं। ज्यादातर लोगों के दिन की शुरुआत चाय या कॉफ़ी से होती है। हालांकि, दूध वाली चाय सेहत के लिए फायदेमंद नहीं होती है। खासकर सुबह में खाली पेट चाय बिल्कुल न पिएं। इसमें कैफीन पाया जाता है, जिससे सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इसके लिए डॉक्टर्स हमेशा ग्रीन या हर्बल टी पीने की सलाह देते हैं। आयुर्वेद में ग्रीन टी को औषधि माना जाता है। इसमें कई औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए किसी वरदान से कम नहीं होते हैं। इसके लिए रोजाना सीमित मात्रा में ग्रीन टी जरूर पिएं। इससे मोटापा, मधुमेह, उच्च रक्तचाप आदि रोगों में बहुत जल्द आराम मिलता है। अगर आप सेहतमंद रहना चाहते हैं, तो बादाम की चाय का सेवन कर सकते हैं। कई शोधों में खुलासा हुआ है कि बादाम की चाय के पीने से सेहत पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है। आइए, इसके बारे में सबकुछ जानते हैं-

मोटापा और मधुमेह में फायदेमंद

बादाम में फाइबर और प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। फाइबर युक्त चीजों के सेवन से मोटापा में आराम मिलता है। इससे पेट देर तक भरा रहता है और बार-बार खाने की समस्या से भी निजात मिलता है। डॉक्टर्स भी बढ़ते वजन को कंट्रोल करने के लिए हमेशा फाइबर और प्रोटीन युक्त चीजें खाने की सलाह देते हैं। वहीं, बादाम में मैग्नीशियम भी पाया जाता है। मैग्नीशियम युक्त चीजों के खाने से शुगर में आराम मिलता है।

एंटी एजिंग होती है यह चाय

बादाम की चाय में एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन-ई और मिनरल आदि आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो त्वचा के लिए किसी वरदान से कम नहीं हैं। इसके सेवन मेटाबॉलिज्म सक्रिय रहता है।

पुरानी बीमारियों में फायदेमंद

पुराने रोगों में बादाम की चाय काफी फायदेमंद साबित होती है। इसके सेवन से कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में रहता है। ह्रदय संबंधी रोगों का खतरा कम हो जाता है। बादाम की चाय के नियमित सेवन से तनाव से निजात मिलता है।

उपवास में लाभकारी

उपवास के दौरान बादाम की चाय पीना लाभकारी होता है। इससे उपवास के दौरान होने वाली थकान दूर होती है। बादाम की चाय से उपवास के दौरान बार-बार भूख और प्यास लगने की समस्या में आराम मिलता है।

कैसे बनाएं बादाम की चाय

बादाम की चाय बनाने के लिए रात में सोने से पहले एक गिलास पानी में कुछ बादाम भिगोकर रख दें। सुबह बादाम के छिलके को निकालकर पेस्ट बना लें। अब अब पेस्ट को एक गिलास पानी में उबालें। आप अपनी इच्छा अनुसार इस चाय में चीनी, गुड़ या शहद, इलायची, काली मिर्च, दाल चीनी, तेजपत्ता आदि चीजों का प्रयोग कर बादाम की चाय को टेस्टी बना सकते हैं। जब चाय तैयार हो जाए, तो सामान्य चाय की तरह सेवन करें।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Edited By: Pravin Kumar