नई दिल्‍ली, जेएनएन। Eating Contaminated Food People Fall Ill Globally : फुर्तीले और चुस्‍त-दुरुस्‍त सेहत के लिए चिकित्‍सक फलों के सेवन की सलाह देते हैं। लेकिन आप जो फल खा रहे हैं वह कितने साफ और स्‍वच्‍छ हैं यह सुनिश्चित करना आपकी ही जिम्‍मेदारी है। दूषित फलों के सेवन से दुनिया का हर दसवां व्‍यक्ति बीमार हो रहा है। इनमें 5 साल से छोटे बच्‍चों की संख्‍या ज्‍यादा है।

फलों से तमाम तरह के एंटी ऑक्‍सीडेंट, मिनरल्‍स, प्रोटीन और विटामिंस शरीर को हासिल होती हैं यह हम अच्‍छे से जानते हैं। यही वजह है कि न्‍यूट्रीशिन साफ सुथरे खाद्य पदार्थों के सेवन की सलाह देते हैं। तमाम कोशिशों के बावजूद भी दुनियाभर में लोग दूषित फल और खाद्य पदार्थों का सेवन कर रहे हैं और घातक बीमारियों का शिकार होते जा रहे हैं।

डब्‍ल्‍यूएचओ की ताजा रिपोर्ट में दावा किया गया है कि दुनियाभर में 10 में से एक व्‍यक्ति दूषित फल या खराब खाद्य पदार्थ के सेवन के चलते बीमारी की चपेट में है। खराब खाद्य पदार्थों खासकर फलों और सब्जियों के सेवन के चलते दुनियाभर में 60 करोड़ लोग बीमारी के शिकार हो चुके हैं। रिपोर्ट के मुताकिब दूषित खाद्य पदार्थ के चलते हर साल दुनियाभर के 420000 लोगों की मौत हो जाती है।

रिपोर्ट में बच्‍चों को लेकर किए गए खुलासे बेहद डरावने हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि 5 साल से कम उम्र के 40 फीसदी बच्‍चे दूषित खाद्य पदार्थ के कारण बीमारियों के शिकार बन रहे हैं। यहीं नहीं हर साल 125000 बच्‍चों की दूषित खाने की वजह से मौत हो जा रही है। डब्‍ल्‍यूएचओ के मुताबिक यह बेहद भयानक स्थिति है। दूषित खाने के कारण लोग डायरिया से लेकर कैंसर जैसी घातक बीमारियों का शिकार हो रहे हैं।

विशेषज्ञों के मुताबिक बाजार में तमाम तरह के फलों को समय से पहले पकाने के लिए खतरनाक केमिकल्‍स का इस्‍तेमाल किया जा रहा है। वहीं, कई फलों और सब्जियों को उनकी क्षमता से अधिक बड़ा करने और ज्‍यादा दिन तक चलाने के लिए भी ऑक्‍सीटोसिन जैसे कई तरह के घातक रसायनों का इस्‍तेमाल हो रहा है। ऐसे में लोगों को फलों और सब्जियों का चुनाव करते समय सतर्क रहना चाहिए। खासकर बेमौसम आई सब्‍जी या फल के सेवन से बचना चाहिए।  

Posted By: Rizwan Mohammad

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस