दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोना वायरस महामारी को शिकस्त देने के लिए भारत समेत दुनियाभर के कई देशों में टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो चुकी है। साथ ही कोरोना वायरस को जड़ से समाप्त करने के लिए कई शोध किए जा रहे हैं। इस क्रम में एक नए शोध से पता चला है कि ओ ब्‍लड ग्रुप वाले लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा बहुत कम रहता है। वहीं, बी और एबी ब्‍लड ग्रुप वाले लोगों को संक्रमण का खतरा अधिक रहता है। इस शोध से यह भी पता चला है कि शाकाहारियों में कम सीरो पॉजिटिविटी पाई गई।

यह शोध वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (Council of Scientific and Industrial Research, CSIR) की तरफ से की गई थी। इस शोध के तहत 40 संस्थानों में सीरोसर्वे किया गया। इस शोध में संस्थानों में काम करने वाले 10,427 वयस्क व्यक्तियों और उनके परिवार के सदस्य को शामिल किया गया था। CSIR ने कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी की मौजूदगी का आकलन करने के शोध में शामिल सभी लोगों का नमूने लेकर उस पर गहन अध्ययन किया। इस शोध में यह पाया गया कि जिन लोगों का ब्लड ग्रुप 'ओ' है। उनको कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा बहुत कम होता है। साथ ही जिन लोगों का ब्लड ग्रुप 'बी' और 'एबी' हैं। उन्हें कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा बहुत अधिक है।

इस शोध में शामिल लोगों में 346 व्यक्ति सीरो पॉजिटिव पाए गए थे। उनमें तीन महीने के बाद की गई जांच में कोरोना वायरस के प्रति एंटीबॉडी स्तर 'स्थिर' से लेकर अधिक था। वहीं, कोरोना वायरस संक्रमण को कम अथवा खत्म करने के लिए प्लाज्मा में गिरावट देखी गई। जबकि, 1,058 (10.14 प्रतिशत) लोगों में कोरोना वायरस के प्रति एंटीबॉडी थी। इस शोध की पुष्टि के लिए फ्रांस, इटली, न्यूयॉर्क और चीन के अध्ययनों और उनकी रिपोर्टों का भी हवाला दिया गया है।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021