कानपुर, लालजी बाजपेयी। शारदीय नवरात्र के बाद सर्दियों की दस्तक हो जाती है। हर मौसम का हमारी सेहत पर असर पड़ता है। इसलिए स्वस्थ रहने के लिए आहार-विहार भी मौसम के हिसाब से होना चाहिए। इससे शरीर को इम्युनिटी का सुरक्षा कवच मिलता है और यह हमें हर तरह के संक्रमण से बचाता है। मौसम बदलने के समय वायरस व बैक्टीरिया बहुत सक्रिय होते हैं। इसके अतिरिक्त ये समय त्योहारों का भी है। यानी लगभग तीन सप्ताह का समय त्योहारों के उल्लास में बीतेगा। आज दशहरा है और इसके बाद करवाचौथ, छठ पूजा और फिर रोशनी का त्योहार दीवाली मनाया जाएगा। ऐसे में खानपान में सजगता तो बरतनी ही है, बीमारियों के प्रति सजग भी रहना है। ये सभी त्योहार पटाखों वाले होते हैं और पटाखों का धुआं वायु प्रदूषण बढ़ाएगा, जिससे श्वसनतंत्र संबंधी बीमारियों के साथ ही अन्य शारीरिक समस्याएं बढे़गी। एक तरफ त्योहार और दूसरी तरफ ठंड का धीरे-धीरे बढ़ना। यानी सेहतमंद रहने के लिए हमें बचाव के साथ ही आहार-विहार पर विशेष सावधानी बरतनी है।

श्वसन व जटिल रोगों के मरीज रहें सतर्क

बुजुर्ग और वे लोग जो पहले से ही अस्थमा, सीओपीडी, एलर्जी और ब्रांकाइटिस जैसी बीमारियों से ग्रसित हैं, उन्हें अतिरिक्त सतर्कता बरतने की जरूरत है। अस्थमा से ग्रस्त लोगों को बदलते मौसम में स्वास्थ्य के प्रति अधिक ध्यान देने की जरूरत है। तापमान में बदलाव होने से गले में खराश, बुखार, खांसी व जुकाम की भी समस्या हो सकती है। इससे बचने के लिए गरारा करें, भाप लें और तुलसी, अदरक, लौंग आदि के काढे का सेवन करें।

मौसम के हिसाब से रखें खानपान

खानपान मौसम के साथ बदलता है। अब सर्दी बढेगी। इसलिए ठंडी चीजों का सेवन बंद कर दें। दालचीनी, लहसुन, अदरक, मेथी काली मिर्च, हल्दी, लौंग, तेज पत्ता आदि मसालों का सेवन करें। आयुर्वेद के अनुसार, ये चीजें शरीर की इम्युनिटी बढ़ाती हैं। इसके साथ ही अब छुहारा, सूखा नारियल, बादाम, मूंगफली व अखरोट का सेवन शुरू कर देना चाहिए।

विटामिन-सी को दें प्राथमिकता

स्वस्थ रहने के लिए पोषक आहार की जरूरत होती है और शरीर के लिए आवश्यक विटामिंस हमें अनाज, हरी सब्जियों आदि से मिलते हैं। विटामिन-सी इम्युनिटी मजबूत बनाने के लिए बहुत जरूरी होता है। इम्युनिटी से शरीर को संक्रमणों से लड़ने की शक्ति मिलती है। विटामिन-सी बदलते मौसम में कफ और फ्लू वाली बामारियों से भी बचाता है।

शारीरिक रूप से सक्रिय रहें

अच्छी सेहत के लिए व्यायाम बहुत जरूरी है। इसलिए व्यायाम और शारीरिक सक्रियता बनाए रखें। साइकिलिंग, योग, व्यायाम, प्राणायाम आदि से मानसिक और शारीरिक सेहत दुरुस्त रहती है। शारीरिक सक्रियता का भी इम्युनिटी मजबूत करने में विशेष योगदान है।

Edited By: Sanjay Pokhriyal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट