नई दिल्ली, लाइफस्टाइल। प्रोटीन हमारे शरीर के निर्माण के लिए बेहद जरूरी है। जिस तरह पानी के बिना जिंदगी की कल्पना नहीं की जा सकती है, उसी तरह प्रोटीन के बिना शरीर निर्माण की कल्पना नहीं की जा सकती। प्रोटीन शरीर के सभी अंगों की मरम्मत करता है। जब भी शरीर में किसी तरह की टूटन-फूटन मचती है, प्रोटीन ही बिल्डिंग ब्लॉक का काम करता है। प्रोटीन मांसपेशियों को मजबूत बनाने में सहायक है। प्रोटीन ही एंजाइम को बनाता है जो शरीर में कई रासायनिक प्रतिक्रिया के लिए जिमम्मेदार होते हैं। प्रोटीन से ही खून में हीमोग्लोबिन बनता है जो ऑक्सीजन को पूरे शरीर में पहुंचाता है।

आमतौर पर लोगों की यह राय होती है कि नॉन वेजिटेरियन लोगों के पास प्रोटीन की ज्यादा च्वाइसेज होती हैं लेकिन यह बात गलत है। कई अध्ययनों में यह साबित हो चुका है कि वेजिटेरियन लोगों के लिए प्रोटीन के जितने साधन मौजूद हैं, उतने साधन नॉन वेजिटेरियन के पास नही है। भारत में दुनिया के सबसे ज्यादा लोग वेजिटेरियन हैं। मेडिकल साइंस के मुताबिक एक स्वस्थ्य व्यक्ति को प्रतिदिन 7 ग्राम से 20 ग्राम तक प्रोटीन की जरूरत होती है। इसलिए प्रोटीन हमारे शरीर के लिए महत्वपूर्ण है। आइए जानते हैं कि वेजिटेरियन लोगों के पास प्रोटीन के क्या क्या सस्ते स्रोत हैं।

मसूर की दाल

भारत जैसे गरीब देशों में मसूर की दाल से बढ़कर प्रोटीन का बड़ा स्रोत और कोई हो ही नहीं सकता। वैसे तो सभी तरह की दाल में प्रोटीन प्रचूर मात्रा में पाया जाता है लेकिन मसूर की दाल में सबसे ज्यादा प्रोटीन होता है। प्रत्येक सौ ग्राम मसूर की दाल में 9 ग्राम तक प्रोटीन पाया जाता है।

छाछ

छाछ भी प्रोटीन का बड़ा स्रोत है, बशर्ते वह लो फैट वाली हो। यानी छाछ से क्रीम को अच्छी तरह निकाल दी जाए। सौ ग्राम छाछ से 5.7 ग्राम तक प्रोटीन प्राप्त किया जा सकता है। छाछ बहुत सस्ती भी होती है।

हरी मटर

प्रोटीन के सस्ते स्रोत में हरी मटर भी प्रमुख स्रोत है। यह भारत के हर कोने में उपजाई जाने वाली फसल है। मटर में प्रोटीन के खूब स्रोत पाए जाते हैं। एक सौ ग्राम मटर में 5.4 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है।

मूंगफली

मूंगफली भी भारत जैसे गरीब देशों के लिए प्रोटीन का महत्वपूर्ण स्रोत है। यह सस्ती होती है और इसे कई महीनों तक बिना किसी अतिरिक्त प्रयास के स्टोर किया जा सकता है। एक सौ ग्राम मूंगफली में 24.1 ग्राम प्रोटीन मिल सकता है।

कद्दू के बीज

आमतौर पर अपने देश में कद्दू के बीज को लोग फेंक देते हैं लेकिन कद्दू के बीज में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। सबसे बड़ी बात यह है कि इसमें कोई अतिरिक्त लागत भी नहीं लगती। सौ ग्राम कद्दू के बीज में 29.8 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है। 

               Written By Shahina Noor

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस