नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Asymptomatic Coronavirus: दुनियाभर में लॉकडाउन और सामाजिक दूरी बनाए रखने के बावजूद ज़्यादातर देश इस नए कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए आज भी जिद्दोजहद में लगे हैं। यह ख़तरनाक संक्रमण ने अभी तक दुनियाभर में 3.85 मिलियन लोगों को अपना शिकार बना चुकी है और अब भी तेज़ी से फैल रही है।

इसी के साथ लाखों वैज्ञानिक इस बीमारी के बारे में ज़्यादा से ज़्यादा जानने की कोशिश कर रहे हैं। कुछ समय पहले ऐसा माना जा रहा था कि ये संक्रमण तभी फैलता है, जब किसी संक्रमित व्यक्ति में इसके लक्षण नज़र आते हैं, लेकिन हाल ही के कुछ शोध में पता चला है कि ऐसा ज़रूरी नहीं है। एक तरफ लोग सामाजिक दूरी और ऐसे लोगों से भी दूरी बनाए हुए हैं जिनमें फ्लू के तरह के लक्षण दिख रहे हैं, लेकिन ऐसे लोगों को क्या करें जो कोरोना वायरस से संक्रमित तो हैं, लेकिन उनमें कोई लक्षण नहीं दिखाई देते?  

अलक्षणी कोरोना वायरस

हाल ही की रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस बात के पुख्ता सबूत मिले हैं कि कोरोना वायरस अलक्षणी प्रसारकों द्वारा भी फैलाया जा सकता है। ये ऐसे लोग होते हैं जो इस बीमारी से संक्रमित तो गए हैं, लेकिन उनमें या तो बेहद मामूली या फिर कोई लक्षण नहीं दिखते। नतीजतन, ऐसे लोग इस बात से अनजान कि वह संक्रमित हैं, एतियात नहीं बरतते और दोस्तों, परिवार या किसी भी व्यक्ति से मिलते रहते हैं। 

तीन तरह के अलक्षणी कोरोना वायरस

मेडिकल एक्पर्ट्स ने पाया है कि तीन तरह के अलक्षणी कोरोना वायरस होते हैं, एसिम्प्टमैटिक, प्रीसिम्प्टमैटिक और हल्के सिम्प्टमैटिक

1. हल्के सिम्प्टमैटिक

ऐसे लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण काफी हल्के नज़र आते हैं, जैसे हल्की खांसी या बुख़ार और हल्की थकावट। 

2. प्रीसिम्प्टमैटिक

ऐसे लोगों में संक्रमित होने के बाद एक हफ्ते तक कोई लक्षण नज़र नहीं आता है। एक हफ्ते के बाद इन लोगों में खांसी, बुख़ार और थकावट

3. एसिम्प्टमैटिक

ऐसे लोगों में वायरस से संक्रमित होने के बाद कोई लक्षण नज़र नहीं आता है। नतीजतन, ऐसे लोग कई ज़्यादा लोगों को संक्रमित कर देते हैं और महामारी को ख़तरनाक तरीके से बढ़ावा देते हैं।

कोरोना वायरस के आम लक्षण

अभी ऐसा भी देखा गया है कि कई लोगों में बाकी लोगों से अलग लक्षण नज़र आते हैं। जैसे सुगंध और स्वाद का न महसूस होना और डायरिया।

इसका मतलब यह है कि कुछ मामले जो अलक्षणी प्रतीत होते हैं वे हल्के लक्षण वाली श्रेणी में आ सकते हैं। इस वक्त हम सभी के लिए ज़रूरी है कि हम लॉकडाउन, स्वच्छता, सामाजिक दूरी के साथ सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन करें।

आपको क्या करना चाहिए

अगर आपको पता चले कि आप कोरोना वायरस के किसी अलक्षणी कैरियर के संपर्क में आए चुके हैं, तो अपने आपको 14 दिनों के लिए क्वारेंटीन में रखें। इससे आम दूसरे में ये संक्रमण नहीं फैलाएंगे। एमर्जेंसी के अलावा किसी और काम के लिए घर से बाहर न निकलें। किसी से न मिलें। अपनी नाक और मुंह को हर वक्त ढक कर रखें। बुज़ुर्गों, बीमार लोगों और बच्चों से दूरी बनाए रखें।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021