Move to Jagran APP

हल्दी पाउडर से ज्यादा गुणकारी है Raw Turmeric, जानें इसे डाइट में शामिल करने के फायदे

हल्दी पाउडर हमारे खानपान का एक अहम हिस्सा है जिसके बिना खाने का स्वाद अधूरा लगता है। यह खाने को एक खास रंग और स्वाद देने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि हल्दी पाउडर की जगह कच्ची हल्दी का इस्तेमाल ज्यादा फायदेमंद माना जाता है। ऐसे में आज इस आर्टिकल में जानेंगे हल्दी पाउडर से क्यों ज्यादा बेहतर है Raw Turmeric।

By Harshita Saxena Edited By: Harshita Saxena Thu, 11 Jul 2024 11:53 AM (IST)
कच्ची हल्दी के फायदे (Picture Credit- Freepik)

लाइफस्टाइल डेस्क, नई दिल्ली। हमारे खानपान में हम कई ऐसे मसाले इस्तेमाल करते हैं, जो खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ ही सेहत को भी फायदा पहुंचाते हैं। हल्दी इन्हीं मसालों में से एक है, जिसे अक्सर खाने का रंग और स्वाद बेहतर बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। आमतौर पर इसे पाउडर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। हल्दी पाउडर के बिना लगभग हर व्यंजन का स्वाद अधूरा लगता है। यही वजह है कि भारतीय में रसोई में आपको यह मसाला निश्चित ही मिल जाता है।

खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ ही हल्दी अपने औषधीय गुणों के लिए भी जानी जाती है। इसका इस्तेमाल से सदियों से आयुर्वेद में भी किया जा रहा है। हालांकि, हल्दी पाउडर के अलावा कच्ची हल्दी भी कई लोग अपनी डाइट में शामिल करते हैं। कच्ची हल्दी कई मायनों में हल्दी पाउडर से ज्यादा फायदेमंद होती है। आइए जानते हैं हल्दी पाउडर से क्यों ज्यादा फायदेमंद है कच्ची हल्दी-

यह भी पढ़ें-  पालक को देख आपके बच्चे भी बनाते हैं नाक-मुंह, तो इस रेसिपी से तैयार करें स्वादिष्ट Lehsuni Palak

पोषक तत्वों से भरपूर

कच्ची हल्दी कई सारे पोषक तत्वों से भरपूर होती है। इसमें विटामिन, मिनरल और असेंशियल ऑयल समेत कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो सेहत को कई तरह से फायदा पहुंचाते हैं। वहीं, दूसरी तरफ हल्दी पाउडर को प्रोसेस करने से इसके कुछ कंपाउंड क हो सकते हैं, जिससे इसके न्यूट्रिएंट कंटेंट कम हो सकते हैं।

बेहतर स्वाद और सुगंध

कच्ची हल्दी अपनी तेज सुगंध और स्वाद की वजह से खाने का स्वाद दोगुना करती है। इसमें मौजूद नेचुरल ऑयल फ्लेवर बढ़ाने में मदद करता है, जो पाक व्यंजनों के स्वाद को बढ़ाता है। वहीं, हल्दी पाउडर में कच्ची हल्दी की तुलना में स्वाद और सुगंध कम होती है।

हाई करक्यूमिन कंटेंट

कच्ची हल्दी में आमतौर पर करक्यूमिन कंटेंट ज्यादा मात्रा में पाया जाता है। इसमें मौजूद एक्टिव कंपाउंड इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए जिम्मेदार है। वहीं, कच्ची हल्दी को पाउडर में बदलने वाले प्रोसेस के दौरान इसमें करक्यूमिन लेवल कम हो सकता है।

असेंशियल ऑयल का संरक्षण

कच्ची हल्दी में पाए जाने वाले असेंशियल ऑयल, जैसे टर्मेरॉन और एटलांटोन अपने चिकित्सीय लाभों के लिए जरूरी है। वहीं, हल्दी पाउडर के प्रोडक्शन के लिए इसे पीसने और फिर प्रोसेस करने के दौरान ये ऑयल आंशिक रूप से या पूरी तरह से नष्ट हो सकते हैं।

नेचुरल एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

कच्ची हल्दी नेचुरल एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है, जो हल्दी पाउडर बनाने के दौरान सूखने और पीसने की प्रक्रिया की वजह से कम या खत्म हो सकते हैं। ये एंटीऑक्सीडेंट फ्री रेडिकल्स को बेअसर करने और आपके पूरे स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

यह भी पढ़ें- चावल हो या रोटी 'मोरिंगा दाल' के साथ बनाएं लंच को हेल्दी एंड टेस्टी