यह सुई और धागे की दोस्ती भी कमाल की है। डिज़ाइन से लेकर स्टाइल तक अनगिनत शैलियां हैं, लेकिन हर किसी में इस्तेमाल सिर्फ एक ही चीज़ होती है, सुई और धागा। है न आश्चर्य। सोचकर देखिए, ये सुई और धागा पूर्वोत्तर चला जाए, तो कांथा हो जाता है। लखनऊ की नफासत में ढलकर इसका अंदाज़ लखनवी चिकनकारी बन जाता है। पंजाब में यह फुलकारी बनकर रौनकें लगाता है तो खास मौको पर आरी और ज़रदोजी के रूप में सामने आता है। ज़रूरत बस नाम लेने की होती है, इसका हर अंदाज़, हर कढ़ाई की खासि‍यत आपको सजाती-संवारती है।

कारीगरी का करिश्मा

कहते हैं, फैशन हर बार खूद को ही दोहराता है। बस कभी-कभी उसकी शैली बदल जाती है। कढ़ाई यानी एंब्रॉयडरी का फैशन कभी खत्म नहीं होता। एक कारीगर जब अपने हाथ में सुई और धागा पकड़ता है, तो वह आपके लिए एक ऐसा संसार रच रहा होता है, जहां सिर्फ आप ही आप दिखाई दें। इस कारीगरी को कैसे करिश्मे में बदलना है, यह आपकी जि़म्मेदारी है। चलिए हम आपको ले चलते हैं, फैशन की उन गलियों में जहां से हर समारोह के लिए आपके पास एक विकल्प होगा।शादियों के मौसम में

किसी भी कशीदाकारी की साड़ी का फैशन कभी आउट ऑफ टेंड नहीं होता। एंब्रॉयडेड साड़ी हर फंक्शन में अच्छी लगती है। शादी के बाद होने वाली शाम की पार्टी में आप इसे बेझिझक कैरी कर सकती हैं। अगर आप मिनिमल लुक चाहें, तो ऐसी साड़ी चुनें, जिस पर सिर्फ बॉर्डर पर एंब्रॉयडरी हो। आजकल हर फंक्शन में तरह-तरह के लहंगे पहनने का चलन है। लहंगे में पूरे घेर पर कशीदाकारी हो, तो इसकी खूबसूरती अलग दिखाई देती है।

कुछ मॉडर्न लुक चाहिए, तो पलाज़ो कुर्ता पहन सकती हैं। कुर्ते की बांह और नेक पर एक जैसी एंब्रॉयडरी कराएं और शिफॉन का दुपट्टा कैरी करें।

आपको यकीन नहीं होगा, लेकिन बिज़नेस सूट पर भी कशीदाकारी खूब फबती है। पूरे कोट पर एंब्रॉयडरी और ठीक वैसी ही एंब्रॉयडरी ट्राउज़र पर हो, तो इसे ऑफिस के किसी फॉर्मल फंक्शन में पहन सकती हैं।

एक्सेसरीज़

एक्सेसरीज़ भी अगर एंब्रॉयडेड होगी, तो यह परफेक्ट लुक होगा।

शादी यह किसी पारंपरिक फंक्शन में ज़रदोजी पोटली बैग खूब फबता है।

कॉलेज या फॉर्मल फंक्शन में चिकनकारी या कश्मीरी कढ़ाई का हैंडबैग अच्छा लगता है।

ज्यूलरी पर भी हो ध्यान

एंब्रॉयडेड आउटफिट्स के साथ सिल्क थ्रेड की ज्यूूलरी बहुत अच्छी लगती है। यह बिलकुल अलग लुक देती है, लेकिन अगर आप हेवी एंब्रॉयडरी की कोई ड्रेस पहन रही हैं, तो स्टोन वर्क का चोकर और झुमके इसके लिए परफेक्ट चॉइस रहेंगे। कोशिश करनी चाहिए कि कशीदाकरी ड्रेस, लहंगे या साड़ी के साथ जड़ाऊ कंगन या चूड़ी न पहनी जाए। ऐसा नहीं है कि यह इसके साथ फबती नहीं हैं, लेकिन इससे ड्रेस खराब होने का खतरा बढ़ जाता है। कंगन या चूड़ी के स्टोन में अकसर धागे फंसते हैं और ये ड्रेस की शोभा को ख्‍राब कर देते हैं। इसलिए ऐसा डिज़ाइन चूज़ करें, जिसमें बहुत स्टोन वर्क जैसी चीज़ें न हों।

फुटवेयर न हो नज़रअंदाज़

फुटवेयर में कढ़ाई वाली जूतियां खूब अच्छी लगती हैं, लेकिन यदि आपको हील चाहिए, तो ड्रेस के रंग वाले स्टै्रप के सैंडल पहनें। इससे कंप्लीट लुक मिलता है।

(फैशन डिज़ाइनर राहुल मिश्रा से बातचीत पर आधारित)

Pic credit- freepik

Edited By: Priyanka Singh