नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। मौसम में बदलाव और कोविड-19 संक्रमण से रिकवरी के बाद के इफेक्ट्स ने हमारी लाइफस्टाइल को कई मायनों में बदल दिया है। दिन में कई बार हाथों को धोना हमारी आदत में शामिल हो गया है। कई बार हाथों को धोने से हमारे हाथों की नाज़ुक त्वचा रूखी हो जाती है और अब ठंड के मौसम में ये और भी ड्राईनेस बढ़ जाएगी, जिससे त्वचा पर जलन भी शुरू हो सकती है। ऐसे में ज़रूरी है कि रूखे मौसम में आप ऐसा हैंडवॉश चुनें जो आपके हाथों को बैक्टीरिया से बचाए और स्किन को मुलायम और हेल्दी रखे। इसलिए अगली बार अगर आप हैंथवॉश चुनें तो इन 5 बातों का ख़्याल रखें:

बैक्टीरिया से बचाव

जब हाथ धोने की बात आती है तो रोगाणु संरक्षण सबसे बुनियादी सवाल है, यह जरूरी है कि सफाई करने वाला हमारे हाथों को सभी गंदगी और कीटाणुओं से छुटकारा पाने में मदद करे। संक्रमण आमतौर पर तब फैलता है जब गंदे हाथों से आप चेहरे, आंखों, नाक, मुंह को छूते हैं। इन अंगों से वायरस आपके शरीर में प्रवेश कर जाता है।

फ्रेग्नेंस का इस्तेमाल

अच्छी खुशबू मूड को बदलने का काम करती है। फलों, फूलों और ऑयल बेस्ड खुशबू वाले हैंडवॉश न सिर्फ हाथों को साफ रखते हैं बल्कि साथ ही मूड को बेहतर भी बनाते हैं।

पोषण

एक अच्छा हैंडवॉश न सिर्फ हाथों को कीटाणुओं से बचाता है बल्कि उन्हें मुलायम रखता है और नमी भी देता है। सही इंग्रीडिएंट्स के संयोजन और सही फॉर्मुला त्वचा को मॉइश्चराइज़ और कोमल बनाने में मदद कर सकता है। इसलिए हमेशा ऐसा हैंडवॉश चुनें जिसमें हाइड्रेटिंग गुण हों जो न सिर्फ आपके हाथों को साफ रखेंगे बल्कि उन्हें नरम और कोमल भी बनाएंगे।

नया जीवन देना

सुगंधित हैंडवॉश से हाथ धोने से एक सक्रिय मनोदशा को बढ़ावा मिल सकता है, जिससे हम तरोताज़ा और ऊर्जा से भरपूर महसूस कर सकते हैं। फोम बनाकर हाथ धोना भी एक तरह से रिफ्रेशिंग होता है। जिससे आपका मूड अच्छा हो जाता है, आप खुशी और सुकून महसूस करते हैं।

इसमें कोई शक़ नहीं कि हाथ हमारे शरीर का सबसे अहम हिस्सा होते हैं। इसलिए इन्हें साफ, कीटाणुओं से सुरक्षित, हाइड्रेटेड और पोषण देने की ज़रूरत होती है।

तो अगली बार जब भी आप हैंडवॉश लेने जाएं, तो इन सभी बातों का ख़्याल रखना न भूलें।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Edited By: Ruhee Parvez