नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Hair Removal Myths: चेहरे या शरीर पर अनचाहे बाल हमें अच्छे नहीं लगते, यह एक महिला को कम फेमिनिन महसूस कराते हैं। हम सब स्मूद हाथ और अंडरआर्म्स चाहते हैं। अनचाहे बालों से छुटकारा पाने के लिए हम सब कुछ करते हैं। वहीं इससे जुड़े कईं भ्रम भी हैं, जिन पर हम आसानी से विश्वास कर लेते हैं। क्या हैं वह भ्रम, जानिए इस आर्टिकल में।

1. लेज़र हेयर रिमूवल पर्मानेंट होता है

लेज़र हेयर ट्रीटमेंट पर्मानेंट नहीं होता, लेकिन वैक्सिंग या शेविंग की तरह इसे हर महीने या हर कुछ दिनों में नहीं करना होता है। इसके पूरे ट्रीटमेंट में 5-6 सिटिंग करनी होती है। यह प्रक्रिया हर एक से दो साल में दोहरानी होती है। इस ट्रीटमेंट में बालों को हटाने के लिए डार्क मेलेनिन पिग्मेंट को टार्गेट करके हेयर फॉलिकल्स पर लेज़र ज़ैप तकनीक यूज़ की जाती है। गर्मी की वजह से लेज़र फॉलिकल को ख़त्म करता है और बाल 10 से 15 दिन बाद गिरने लगते हैं। इसमें दर्द होता है, लेकिन वैक्सिंग की तुलना में काफी कम होता है।

2. शेविंग से नए बाल मोटे आते हैं

अनचाहे बालों को हटाने के लिए ट्वीज़िंग, क्रीम, शेविंग या एपिलेटर का उपयोग करने से दोबारा जो बाल आते हैं वह मोटे नहीं होते। बालों का मोटापन आपके जींस और हॉर्मोन्स पर निर्भर करता है। इससे बाल तेज़ी से भी नहीं बढ़ते, ऐसा हमें इसीलिए लगता है क्यूंकि शेविंग में बाल सिर्फ सतह से टूटते हैं, जड़ से नहीं।

3. छोटी उम्र में वैक्स करने से बाल कम होंगे

वैक्सिंग से जुड़े आम हेयर रिमूवल भ्रम में से एक यह है कि अगर छोटी उम्र में वैक्स शुरू करते हैं, तो बड़े होने पर बाल कम होंगे।

4. ब्लीचिंग 100% सुरक्षित हैं

बालों को ब्लीच करना बिना केमिकल के संभव नहीं है। इसलिए अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है आपकी स्किन पर जलन और दाने हो सकते हैं।

4. DIY ट्रीटमेंट प्रोफेशनल जितने ही प्रभावी हैं

घर पर अपने बालों को हटाना रखरखाव के लिए बहुत अच्छा है, लेकिन आम तौर पर उपयोग की जाने वाली तकनीकें और प्रोडक्ट क्लीनिक जैसे प्रोफेशनल जैसे नहीं होते।

5. सफ़ेद बालों को तोड़ने से ज़्यादा बढ़ते हैं

यह एक बहुत बड़ा भ्रम है की एक सफ़ेद बाल तोड़ने से वह एक से ज़्यादा बढ़ते हैं, ऐसा नहीं है। जब आप एक सफ़ेद बाल तोड़ते हैं तो दूसरा अपनी जगह बढ़ता है, इससे ज्यादा कुछ नहीं। सफ़ेद बालों की संख्या जल्दी बढ़ती है, लेकिन यह उम्र, तनाव, डाइट जैसे अन्य वजहों से होता है।

(Dr. Sonia Tekchandani, Celebrity Dermatologist, Founder of Tender Skin International से बातचीत पर आधारित)

Pic credit- freepik

Edited By: Priyanka Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट