एकलव्य विद्यालय के मजदूरों को मिले सरकारी दर पर मजदूरी : मानसिंह

संवाद सूत्र, जगन्नाथपुर : पश्चिमी सिंहभूम जिले में बन रहे एकलव्य विद्यालय के निर्माण में लगे मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी नहीं मिलने का मामला मंगलवार को प्रकाश में आया है। यह मामला हाटगम्हरिया प्रखंड के सियालजोड़ा गांव में निर्माणाधीन एकलव्य विद्यालय भवन में लगे मजदूरों का है। इस विषय को लेकर मंगलवार को सियालजोड़ा गांव में मजदूरों के साथ झारखंड जनरल कामगार यूनियन के जिलाध्यक्ष सह जगन्नाथपुर के जिला परिषद सदस्य मानसिंह तिरिया के नेतृत्व में बैठक हुई। जिप सदस्य मानसिंह तिरिया ने बताया कि सियालजोड़ा गांव में बोकारो की ठेका एजेंसी मेसर्स कमलनाथ जैन की ओर से एकलव्य विद्यालय भवन का निर्माण किया जा रहा है। निर्माण कार्य में लगे मजदूरों को न्यूनतम मजदूरी न देकर 300 मजदूरी भुगतान किया जा रहा है। कार्यरत मजदूरों की मांग है कि वर्तमान झारखंड सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम मजदूरी 350 रुपये दर लागू मजदूरों को दिया जाए। मानसिंह तिरिया ने मांग करते हुए कहा कि मजदूरों को संवेदक द्वारा सेफ्टी किट उपलब्ध कराया जाए। साथ ही साथ काम करने दौरान यदि दो बजे के बाद वर्षा होती है तो मजदूरों की हाजिरी न काटी जाए। वर्षा तो प्रकृति की देन है। कब आयेगी किसे पता पर मजदूर तो मजदूरी के लिए ही सुबह घर से निकलते हैं। विद्यालय निर्माण में स्थानीय मजदूरों को प्राथमिकता दिया जाए। साथ ही महिला मजदूरों को भी काम पर रखा जाए। मानसिंह तिरिया ने कहा कि संबंधित मांगों को लेकर उपायुक्त के नाम प्रखंड विकास पदाधाकारी हाटगम्हरिया को मांग पत्र सौंपा गया है। जल्द पहल नही होने पर 30 जून को उपायुक्त कार्यालय के समक्ष धरना-प्रदर्शन किया जायेगा। बैठक में कृपा हेंब्रम, देवेंद्रनाथ हेंब्रम, अंकुश कोड़ा, जस्टिस हेस्सा, बामन सिंकु, कोलाय चातोम्बा आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran