संवाद सूत्र, सोनुवा : लॉकडाउन में कर्नाटक के बंगलोर में फंसे पश्चिमी सिंहभूम जिले के 13 प्रवासी श्रमिकों के सामने अब भुखमरी की स्थिति आ गई है। इनमें शामिल एक श्रमिक पिछले कई दिन से बीमार भी है, लेकिन पैसे के अभाव में उसका इलाज भी नहीं हो पा रहा है। इन श्रमिकों में सोनुवा, गोईलकेरा और टोंटो प्रखंड के लोग शामिल हैं। इनमें शामिल सोनुवा के श्रमिक रत्नाकर कुम्हार ने बताया कि लॉकडाउन शुरू होने के समय मार्च महीने से अबतक उन्हें काम कराने वाले ऑनर ने उन्हें काम लेने के बाद भी पैसा नहीं दिया है। काम करने से मना करने पर भगा देने की धमकी देता है। अभी दो दिन पहले उन्हें खाने-पीने के लिए कुछ चावल दिया है। इन श्रमिकों में शामिल टोंटो के एक श्रमिक गार्दी लागुरी पिछले कई दिनों से बीमार है। लेकिन उसके इलाज के लिए भी ऑनर रुपया नहीं दे रहा है। जिससे उसकी हालत बिगड़ती जा रही है। ये श्रमिक घर भी लौटना चाहते हैं, लेकिन लौटने के लिए कोई साधन नहीं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस