जागरण संवाददाता, चाईबासा : खेल के साथ शिक्षा बहुत जरूरी है। क्योंकि खेल अपनी जगह और शिक्षा अपनी जगह काम करती है। दोनों का होना आज के समय में अति आवश्यक है। क्योंकि खेल के क्षेत्र में युवाओं की असीम संभावनाएं है। आप के नेशनल तक खेल के माध्यम से पहुंच गए है तो झारखंड सरकार आपको सरकारी नौकरी देगी, ताकि आपका जीवन-यापन अच्छे से हो, लेकिन इसके साथ शिक्षा का होना भी जरूरी है। यह बात रविवार को चाईबासा के टाउन क्लब में आयोजित एक दिवसीय स्व. राधे सुम्बरूई तीरंदाजी प्रतियोगिता के समापन समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष सह जिला परिषद सदस्य दिनेश चंद्र नंदी ने कही। उन्होंने कहा कि आप लोग जिला, राज्य, नेशनल व अंतरराष्ट्रीय मैचों में भाग लेने जाएंगे तो आपको शिक्षा का ज्ञान होना चाहिए। वहां के लोगों से कैसे बात करनी है, ताकि आपकी बात को अच्छी तरह से समझ सके। इस दौरान सीनियर बालक वर्ग 40 मीट तीरंदाजी में पुटीदा आर्चरी सेंटर के प्रथम धनीराम पुरती, द्वितीय राजू बानरा व झींकपानी के जंतुर हेस्सा तृतीय रहे। इसी तरह बालिका वर्ग 40 मीटर में पुटीदा आर्चरी सेंटर की प्रथम नानिका पुरती, द्वितीय चक्रधरपुर की सोमारी तिर्की व तृतीय स्नेहा गोप रही। बालक वर्ग 30 मीटर जूनियर वर्ग में प्रथम धनीराम पुरती, द्वितीय सोमा सामड व तृती कमारहातु के लादुरा देवगम रहे। बालिका वर्ग में प्रथम चक्रधरपुर की स्नेहा गोप, द्वितीय मनीषा नायक व तृतीय आशा गोप रही। 20 मीटर बालक वर्ग में प्रथम धनीराम पुरती, द्वितीय सोमा सामड व तृतीय जंतुर हेस्सा रहे। इस दौरान विजेता प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र देकर अतिथियों ने सम्मानित किया। मौके पर संरक्षक मो. बारीक, कृष्णा देवगम, संजय अखाड़ा, उपेंद्र सिंह के अलावा खेलप्रेमी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप