संवाद सूत्र, नोवामुंडी : जल ही जीवन है, जल है तो कल है, जल संरक्षण जरूरी है। संसार में जल न रहे तो जीवन अधूरा है। इसी संकल्प के साथ गुरुवार को बड़ाजामदा राजकीय आदर्श मिडिल स्कूल के प्रधान शिक्षक राजकुमार श्रीवास्तव ने दैनिक जागरण के सौजन्य से आयोजित जागरण जल सेना गठन के अभियान की परिचर्चा की शुरुआत विद्यालय परिसर से की गई। उन्होंने बताया कि जल संरक्षण को लेकर दैनिक जागरण लोगों के साथ छात्रों को जागरूक करने का काम करता रहा है। इस बार जागरण ने जल सेना गठन कर जल संरक्षण की पहल घर-घर तक पहुंचाने की मुहिम शुरू की है। यह अभियान जल संरक्षण की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। शासन-प्रशासन के सहयोग से दैनिक जागरण ने यह अभियान चलाया है। जिसमें सभी की भागीदारी जरूरी है। उन्होंने कहा कि अभियान में इस विद्यालय को जो दायित्व सौंपा गया है उसे पूरा किया जाएगा।

----------------

जागरण जल सेना के नोडल शिक्षक बने कृष्ण मोहन ठाकुर

जल सेना गठन के लिए बनाए गए नोडल शिक्षक कृष्ण मोहन ठाकुर ने बताया कि संसार के प्रत्येक प्राणी का जीवन आधार ही जल है। मनुष्य अपने स्वास्थ्य सुविधा, दिखावा व विलासिता को दिखाने के लिए अमूल्य जल की बर्बादी करने से नहीं चूकता है। परिणामस्वरूप अधिकांश जगहों पर जल संकट की स्थिति पैदा हो चुकी है। यदि हम अपनी आदतों में बदलाव नहीं लाएंगे तो पानी की बर्बादी नहीं रोक सकेंगे। बस जरूरत है तो जल संरक्षण के प्रति दृढ़संकल्प होने की। क्योंकि जल है तो हमारा भविष्य है। मौके पर जागरण जल सैनिकों के अलावा सभी छात्रों व शिक्षकों को जल संरक्षण की शपथ दिलाई गई।

-----------------

ये बने जागरण जल सैनिक

सारथी गोप, कृष्णा सुर, बसंत बारीक, दीपांजलि गौड़, अर्पित महाकुड़, स्नेहा सिरका, कोमल कुमारी, आरती चौरासिया, सपना दास, सुबध्या गोप, दीपक खंडाईत, पातोर कुंकल, संजय कुमार।

Posted By: Jagran