जागरण संवाददाता, चक्रधरपुर :

चक्रधरपुर में धार्मिक स्थलों पर चोरी के बाद प्रतिमाओं को दूषित करने की पहली बार शुरुआत रेलवे क्षेत्र स्थित बंगाली एसोसिएशन के दुर्गाबाड़ी में आठ अगस्त की भोर को हुई। चोरी की घटना के बाद से मंदिर समिति सतर्क हो गई। जब जागरण टीम शाम को साढ़े पांच मंदिर पहुंची तो परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगे हुए पाए। लोहे के गेट के साथ ही शटर लगाने का कार्य किया जा है। सुरक्षा की दृष्टि से एसोसिशन के सदस्य रतजगा भी कर रहे हैं। साथ ही पुलिस के दो जवान भी मंदिर की सुरक्षा में तैनात हैं। पूजा-पाठ करने के लिए श्रद्धालुओं को आना जाना लगा रहा। मंदिर में जागरण प्रतिनिधि करीब पौन घंटे रुका। इस दौरान दुर्गाबाड़ी का माहौल शांतिपूर्ण लगा। लेकिन घटना को लेकर मंदिर समिति में अभी भी रोष है। उनसे बातचीत में सभी ने एक ही सुर में कहा कि दुर्गा पूजा से पहले आरोपितों की गिरफ्तारी हो। जिससे दुर्गाबाड़ी में हीरक जयंती वर्ष का उल्लास फीका नहीं होगा। मंदिर में चोरी के बाद बंगाली एसोसिएशन ने सुरक्षा के कई उपाय किए हैं। घटना के बाद से लोगों में था आक्रोश

घटना के बाद से शहरवासियों की आस्था को गहरा आधात लगा और सभी वर्ग के लोग सड़क पर उतर आए। विरोध में बाजार बंद करा दिया गया। फॉरेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड भी आए, लेकिन हासिल कुछ नहीं हो सका। इसके एक माह बाद दुर्गाबाड़ी में काफी कुछ बदल चुका है। इस मंदिर की स्थापना 1919 को हुई थी और यह साल हीरक जयंती वर्ष है। मंदिर में लाखों के आभूषणों, सामान की चोरी और प्रतिमाओं को दूषित करने से मर्माहत बंगाली एसोसिएशन है।

-------------

मंदिर में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। मंदिर में लोहे के गेट के ऊपर शटर लगाया जा रहा है। समिति के चार-पांच सदस्य रात में चौकीदारी कर रहे हैं। पुलिस ने दो जवान भी रात्रि में पहरा के लिए प्रतिनियुक्त किया है। पुलिस अब गुनाहगारों को पकड़कर लोगों के समक्ष पेश करे।

फोटो संख्या-9

प्रदीप कुमार मुखर्जी, सचिव बंगाली एसोसिएशन मेरी उम्र 76 वर्ष हो गई है। आज तक मैंने इस तरह की गिरी हुई घृणित घटना नहीं देखी और न सुनी। अमन-चैन को भंग करने में जुटे असामाजिक तत्वों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस नए तरीके से अनुसंधान करे।

फोटो संख्या-10

सुब्रतो सेन, अध्यक्ष, बंगाली एसोसिएशन इस घटना से अगर सांप्रदायिक दंगा हो जाता तो हमारा शताब्दी समारोह का आयोजन तो हो ही नहीं पाता। जबकि बंगाली एसोसिएशन का उद्देश्य ही भाईचारा और प्रेम रहा है। हम पुलिस के कार्य से संतुष्ट नहीं हैं।

फोटो संख्या-11

सुनील भट्टाचार्य, सदस्य बंगाली एसोसिएशन गुनाहगारों को अब तक नहीं पकड़ा जाना पुलिस की नाकामी है। मंदिर का खर्च पहले की तुलना में काफी बढ़ गया है, जिसकी हमें उम्मीद नहीं थी।

फोटो संख्या-12

प्रवीर कुमार दास, संयुक्त सचिव बंगाली एसोसिएशन पुलिस प्रशासन के पास जादू की छड़ी नहीं है। शहर की जनता को ऐसे घटनाओं के प्रति जागरूक होना होगा। शहर के लोग पुलिस को हरसंभव मदद करें। किसी ने तो इतने सारे घटनाओं में से एक को जरूर देखा होगा, लेकिन वह सामने नहीं आया।

फोटो संख्या-13

सुमित चौधरी, कोषाध्यक्ष बंगाली एसोसिएशन जिन मंदिरों में चोरी की घटना नहीं हुई है, उस पर चुपचाप नजर रखें। इससे गुनाहगारों को पकड़ने में मदद मिल सकती है। पुलिस को अपना खुफिया तंत्र और मजबूत करना होगा।

फोटो संख्या-14

देवाशीष भट्टाचार्य, सदस्य बंगाली एसोसिएशन ऐसी घटना की पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए। मंदिरों में हुई घटनाओं की जितनी ¨नदा की जाए, कम है। मंदिर में मां का अपमान हुआ। पुलिस रात्रि गश्ती बढ़ाए।

फोटो संख्या-15

मनोज मुखर्जी, सहायक कोषाध्यक्ष बंगाली एसोसिएशन गुनाहगारों को जब तक पुलिस नहीं पकड़ लेती, हम लोगों को सुकून-चैन नहीं मिलेगा। आखिर कब तक लोग रतजग्गा करेंगे और डर-भय के साये में जीएंगे। पुलिस को इन घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए मामले का उछ्वेदन करना ही होगा।

फोटो संख्या-16

जयदीप दत्ता, सदस्य बंगाली एसोसिएशन मां दुर्गा गुनाहगारों को अवश्य ही सजा देंगी। पुलिस गुनाहगारों को जल्द पकड़े। घटना के बाद मंदिर एवं प्रतिमाओं का शुद्धीकरण कर पूजा की जा रही है।

फोटो संख्या-17

सुकुमार मुखर्जी, पुजारी, दुर्गाबाड़ी बंगाली एसोसिएशन अपराधियों की गिरफ्तारी होनी जरूरी है। अपराधियों को प्रूफ के साथ गिरफ्तार किया जाना चाहिए और उन्हें कड़ी सजा मिलनी चाहिए।

फोटो संख्या-18

संदीप बाउरी, सदस्य बंगाली एसोसिएशन मेरा अनुमान है कि मंदिर में चोरी और मां की प्रतिमा को अशुद्ध करने के पूर्व अच्छी तरह रेकी की गई होगी। इस घटना से तो साफ पता चलता है कि शहर में दंगा कराने की नीयत से ऐसा काम किया गया। हम पुलिस के कार्य से असंतुष्ट हैं, क्योंकि बगल में ही आरपीएफ बैरक भी है।

फोटो संख्या-19

पी नरसावती, महिला सदस्य, बंगाली एसोसिएशन पुलिस गुनाहगारों को पकड़ने में सुस्त रवैया अपना रही है। मंदिर में हुई घटना को एक माह बीत गया है, लेकिन पुलिस को अब तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा।

फोटो संख्या-20

पीवीए राजू, सदस्य बंगाली एसोसिएशन बंगाली एसोसिएशन में शताब्दी समारोह पर कई कार्यक्रम बंगाली एसोसिएशन इस बार शताब्दी समारोह मनाएगा। इस अवसर पर कई कार्यक्रम होंगे। एसोसिएशन के सचिव प्रदीप कुमार मुखर्जी ने बताया कि 13 अक्टूबर को शताब्दी समारोह का उद्घाटन निखिल भारत बंग साहित्य सम्मेलन के अखिल भारतीय महासचिव जयंत घोष करेंगे। जबकि 13 से 17 अक्टूबर तक हर रोज कई मनोरंजन एवं आनुष्ठानिक कार्यक्रम होंगे। दुर्गा पूजा से पहले गुनाहगारों को पकड़ा जाना चाहिए। तभी हम सुकून से शताब्दी समारोह मना सकेंगे। हम यही दुर्गा मां से प्रार्थना कर रहे हैं। मंदिर में केवल चोरी ही नहीं की गई, बल्कि शहर की अमन-शांति को भंग करने का भी प्रयास था।

फोटो संख्या-21

प्रतिमा चक्रवर्ती, महिला सदस्य बंगाली एसोसिएशन हेलो जागरण

धार्मिक स्थलों पर हो रही चोरी की घटनाओं के बारे में आप अपनी राय और अपनी तस्वीर परिचय के साथ मोबाइल नंबर 8102920061 पर वाट्सएप पर भेज सकते हैं। ईमेल द्भड्डद्दह्मड्डठ्ठष्द्मश्च@द्भद्वस्त्र.द्भड्डद्दह्मड्डठ्ठ.ष्श्रद्व पर भी अपनी प्रतिक्रिया भेज सकते हैं।

Posted By: Jagran