संवाद सूत्र, नोवामुंडी : नोवामुंडी प्रखंड में विगत दो सप्ताह से हो रही बिजली की आंख मिचौली से उपभोक्ता खासे परेशान हैं। यदि समय पर इसका निराकरण नहीं किया जाता है तो कांग्रेस प्रखंड कमेटी आंदोलन करने को विवश होगा। नोवामुंडी कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष मंजीत प्रधान ने बताया कि नोवामुंडी डीवीसी स्थित बिजली विभाग के एसडीओ की कथित उदासीनता के कारण समूचे इलाके में दिनभर में पांच से छह घंटे बिजली मिल रही है। इसका खामियाजा नोवामुंडी, बड़ाजामदा, गुवा, किरीबुरू, जगन्नाथपुर, डांगोवापोसी, जैंतगढ़ व हाटगम्हरिया शहरी क्षेत्र के अलावा ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ता भुगत रहे हैं। बताया कि वर्तमान समय में वैश्विक महामारी के कारण शैक्षणिक संस्थान पूरी तरह से बंद हैं। ऐसी स्थिति में स्कूली छात्रों की आनलाइन कक्षा चल रही है। बच्चों को उनके माता-पिता ने आनलाइन के माध्यम से पढ़ने के लिए हाथ में मोबाइल तो थमा दिया है, परंतु बिजली व्यवस्था के कारण मोबाइल चार्ज करने में असमर्थ महसूस कर रहे हैं। इसी को लेकर आनलाइन पढ़ाई पूरी तरह से बाधित हो रही है। नोवामुंडी प्रखंड कांग्रेस कमेटी ने बिजली विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को चेतावनी देते हुए बताया कि आम जनता को बिजली कटौती से परेशान न करें। जल्द से जल्द बिजली व्यवस्था बारिश से पहले दुरुस्त नहीं करने पर नोवामुंडी प्रखंड के सभी उपभोक्ताओं को लेकर नोवामुंडी प्रखंड कांग्रेस कमेटी पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा, सांसद गीता कोड़ा, जगन्नाथपुर विधायक सोनाराम सिकू के नेतृत्व में नोवामुंडी पावर ग्रिड के सामने धरना-प्रदर्शन कर विभागीय अधिकारियों का पुरजोर विरोध कर आंदोलन करेगी।

---------------------

अंधेरे में रहने को मजबूर कुंदरीझोर के ग्रामीण

संवाद सूत्र, जगन्नाथपुर : अखिल भारतीय क्रांतिकारी आदिवासी महासभा जिलाध्यक्ष मानसिंह तिरिया के नेतृत्व में रविवार को तोड़ांगहातु पंचायत के कुंदरीझोर गांव स्थित टोला जोड़ापोखर में बिजली की लचर व्यवस्था को लेकर ग्रामीणों की बैठक हुई। बैठक में जोड़ापोखर का ट्रांसफार्मर जलने के कारण उत्पन्न बिजली की समस्या पर चर्चा की गई। ग्रामीणों ने बताया कि हाल ही में कुंदरीझोर गांव में अंधेरा होने कारण देर रात एक जहरीले सांप के काटने से एक महिला की मौत हो गई थी। बिजली नहीं होने से ग्रामीणों के जीवन पर भी गहरा असर पड़ रहा है। मानसिंह तिरिया ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के लोग ज्यादातर जमीन पर सोते हैं। इससे जहरीले सांपों का डर बना रहता है। बिजली सुविधा जल्द से जल्द बहाल नहीं होने के कारण छात्रों का भी पठन-पाठन प्रभावित हो रहा है। बिजली विभाग द्वारा कनेक्शन तो घर-घर पहुंचा दिया गया है लेकिन खराब ट्रांसफार्मर को नहीं बदला गया। पुराना ट्रांसफार्मर हमेशा खराब होते रहता है। मौके पर ग्रामीण मुंडा ईसाल केराई, रमेश दास, शिशिर तिरिया, पातू लोहार, सोमवारी केराई, शुक्रमुनि केराई आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran