संवाद सहयोगी, चाईबासा: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सोमवार को जब मुफस्सिल थाने का निरीक्षण करने पहुंचे तो थाने की हालत देखकर नाराज हो गये। थाने की हालत पर उन्होंने पुलिस अधीक्षक से कहा कि यह थाना कम और हार्डवेयर की दुकान ज्यादा लग रहा है। उन्होंने कहा कि थाने को थाना बना कर रखो, कबाड़खाना नहीं। 

थाने को रखो साफ-सुथरा

थाना परिसर में मोटरसाइकिल और अन्य पुराने वाहनों को देखकर सीएम ने कहा कि इतनी पुरानी मोटरसाइकिलें और ट्रैक्टर जमा कर क्यों रखा हुआ है। इन सभी को थाना से हटाओ, थाने को साफ सुथरा रखो। ऐसा लग रहा है कि आप लोग थाना नहीं हार्डवेयर की दुकान चला रहे हो। अगर आम आदमी को इतनी बड़ी जगह दुकान लगाने के लिए मिल जाये तो उसका परिवार अच्छा रोजगार कर सकता।

पुलिस अधीक्षक ने कहा, मामला कोर्ट में है

इस पर पुलिस अधीक्षक आशुतोष शेखर ने कहा कि सर कोर्ट का मामला है। जब तक फैसला नहीं हो जाता, मजबूरी में हमें रखना पड़ता है। जिनका केस खत्म हो जाता है, उनको वापस भी करना होता है। इस पर सीएम ने कहा कि इतनी बड़ी जगह पर पुलिस सिर्फ कबाड़ को सालों तक संभाल कर रखेगें, अगर कोर्ट में जगह है तो वहीं रख दो।

डीएमएफटी मद से थाना में बनेगा स्टाफ क्वार्टर

मुफस्सिल थाने के निरीक्षण के दौरान एसपी ने सीएम को कहा कि स्टाफ क्वार्टर की कमी है। इस पर सीएम ने कहा कि जगह उपलब्ध कराओ, क्वार्टर बनाने के लिए पैसा डीएमएफटी मद से दिया जायेगा। डीसी को प्रपोजल दीजिए, स्टाफ क्वार्टर बन कर तैयार मिलेगा। पुलिस लॉ एण्ड आर्डर के लिए तैनात है। उसको सभी तरह की सुविधा देने के लिए सरकार तैयार है।

यह भी पढ़ें: नक्सलवाद का रास्ता छोड़ अर्जुन और युद्धिष्ठिर मछली पालन से बदल रहे तकदीर, लोगों को रोजगार दे पेश कर रहे मिसाल

Edited By: Mohit Tripathi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट