संवाद सहयोगी, चाईबासा : संविधान बचाओ संघर्ष समिति के द्वारा सीएए, एनआरसी और एनपीआर संबंधित बिल के खिलाफ आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पप्पू यादव ने कहा कि भाजपा के सत्ता में आते ही देश में अव्यवस्था का माहौल बना गया है। लोग अपने जात-पात के बारे में जानने लगे हैं। जो देश के लोग हर त्योहार साथ मनाते थे, अब एक-दूसरे से दूरी बनाने लगे हैं। मोदी ने सबसे पहले तीन तलाक का बिल पास किया, लेकिन कोई मुस्लिम सड़क पर विरोध करने नहीं निकला। जबकि यह शरियत के खिलाफ कानून बना था, मुस्लिम शरियत के विरोध को छोड़ संविधान पर विश्वास किया। कश्मीर पर धारा 370 हटाये कोई नहीं निकला क्योंकि यह देश हित में था।राम मंदिर सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर फैसला आया लेकिन कोई मुस्लिम सड़क पर नहीं आया, क्योंकि सब को पता था यह देश को खतरनाक दिशा में ले जाने वाला राजनीतिक मुद्दा था। इसमें भी जब दाल नहीं गला तो सीएए और एनआरसी, एनपीआर लाकर देश को अस्थिरता के मुहाने पर खड़ा कर दिया है। देश के सुप्रीम कोर्ट ने भी मान लिया है कि देश में स्थिति सही नहीं है। उन्होंने कहा कि देश की स्थिति बिगड़ रही है। जीडीपी सबसे निचले स्तर में चला गया है।

------------------

गोडसे विचारधारा वाले देश को बांट रहे : बाबर खान

- झामुमो नेता बाबर खान ने कहा कि सीएए, एनआरसी और एनपीआर जैसे काला कानून किसी भी हालत में लागू होने नहीं दिया जायेगा। एक तरफ गांधी विचार धारा के लोग संविधान को बचाने में लगे हैं दूसरी ओर गोडसे विचार धारा के लोग देश को बर्बाद करने में लगे हैं। आरएसएस को देश से कोई लेना देना नहीं है क्योंकि आजादी के समय तो आरएसएस के लोग अंग्रेजों के गोद में बैठ कर देश के अंदर की बात अंग्रेजों को बताया करते थे। उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून एक समुदाय विशेष के विरोध में लाया जा रहा है। संविधान को खत्म करने की तैयारी की जा रही है। लेकिन हम इसे कभी कामयाब नहीं होने देंगे। हमारा सब्र का इम्तिहान नहीं लिया जाये। हम इस बिल का विरोध तब तक जारी रखेंगे, जब तक यह बिल सरकार वापस नहीं लेती है। आंदोलन हम संविधान के हिसाब से जारी रखेंगे, लड़ाई लंबी लड़नी है।

------------------

देश में षडयंत्र से छात्रों को बनाया जा रहा निशाना : आजम खान

-जामिया विश्वविद्यालय के छात्र आजम खान ने कहा कि देश में एक षडयंत्र चल रहा है जो देश को तोड़ने में लगा हुआ है। कुछ दिन पूर्व जामिया में दिल्ली सरकार के इशारे पर पुलिस जामिया विश्वविद्यालय में प्रवेश कर छात्रों के ऊपर हमला करती है। पड़ने वाले छात्रों को गलत रास्ते में जाने के लिए मजबूर ना करें। हम अपने हक के लिए संविधान के अनुसार विरोध कर रहे थे, इसके बाद भी पुलिस अपनी बरर्बता से छात्र-छात्रा दोनों को मारी है। पूरे विश्वविद्यालय में तोड़ फोड़ की है। हम अपने हक के लिए आवाज उठाते रहेंगे, देश को किसी भी गलत दिशा में जाने नहीं देंगे।

--------------

संविधान देश की आत्मा, इसे नहीं बदलने देंगे : सोनाराम

झामुमो नेता सोनाराम देवगम ने कहा कि संविधान को बचाने के लिए हम सभी एक साथ खड़े हैं। हिन्दूस्तान देश की आत्मा संविधान है। संविधान से देश चल रहा है, इसे बचाना देश के हर नागरिक का कर्तव्य है। देश में जिस प्रकार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह राजतंत्र की तरह शासन करने में लगे हुए हैं। प्रजातंत्र में देश को अलग दिशा में किसी भी हाल में नहीं ले जाने दिया जायेगा। देश भर में जिस प्रकार सीएए और एनआरसी का विरोध हो रहा है, इस पर पुर्न विचार करने की जरुरत है। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी कह चुके हैं कि राज्य में सीएए, एनआरसी और एनपीआर लागू नहीं किया जायेगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस