जागरण संवाददाता, चाईबासा : चाईबासा की बेटी अर्पिता विजयवर्गीय सोमवार को नई दिल्ली में हुई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम का हिस्सा बनी। दिल्ली के ताल कटोरा स्टेडियम में सुबह 11 बजे से एक बजे तक चले इस कार्यक्रम में भले ही अर्पिता को मोदी जी से सीधा सवाल करने का मौका नहीं मिला मगर यह पल उसके लिए अविस्मरणीय बन गया। दिल्ली से दैनिक जागरण से मोबाइल पर बात करते हुए अर्पिता ने अपना अनुभव साझा किया। कहा कि सुबह 10 बजे ही हम लोगों की इंट्री आयोजन स्थल पर हो गयी थी। सुबह 11 बजे से मोदी जी ने परीक्षा पे चर्चा शुरू की। पहली बार उन्हें सामने से देखने का मौका मिला। इस कार्यक्रम को लेकर शुरू में थोड़ा नर्वस थी मगर उनके सामने आते ही मन में जोश भर गया। मुझे मोदी जी के सक्सेस का मंत्र सबसे प्रेरक लगा। मोदी जी ने कहा कि अगर आपको सफल होना है तो आपको एक बैलेंस शिड्यूल लाइफ में बनाना होगा। बैलेंस शिड्यूल के बगैर आप आगे नहीं बढ़ सकते हैं। कुछ पाना है तो थोड़ी नहीं बल्कि बहुत ज्यादा मेहनत करनी होगी। चाईबासा के संत विवेका इंग्लिश स्कूल की इस छात्रा ने कहा कि हम लोग 18 जनवरी की रात में दिल्ली पहुंच गये थे। अगले दिन यानि 19 जनवरी को हम लोगों को लाल किला घुमाया गया। वहां से इंडिया गेट ले जाने का प्रोग्राम था मगर पता चला कि वहां कुछ परेशानी होने की वजह से जाने नहीं दिया जा रहा इसलिए इंडिया गेट नहीं ले जाया गया। 20 जनवरी को कार्यक्रम पूरा होने के बाद अब वो अपने ग्रुप के साथ राजधानी एक्सप्रेस से रांची लौट रही है। वहां से मंगलवार की शाम तक चाईबासा पहुंच जायेगी। मालूम हो कि पश्चिमी सिंहभूम से एक मात्र चाईबासा की अर्पिता का ही चयन परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम के लिए हुआ था।

------------------------

टीवी पर भीड़ में बेटी को खोज रही थी आंखें

जिस समय नई दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम लाइव किया जा रहा था, उसी समय चाईबासा में बैठे अर्पिता के बड़े पापा बाबूलाल विजयवर्गीय और भाभी निशा की आंखे टीवी पर बेटी को खोज रही थीं। विजयवर्गीय परिवार मोदी जी और अर्पिता को देखने व सुनने के लिए 11 बजे ही टीवी के सामने बैठ गया था। एक-एक कर छात्र-छात्राओं का नाम मोदी जी से सवाल करने के लिए पुकारा जा रहा था। विजयवर्गीय परिवार हर नाम उत्सुक्ता के साथ सुन रहा था मगर अर्पिता को बोलने का मौका नहीं मिलने से परिवार थोड़ा निराश रहा। अर्पिता के बड़े पिताजी बाबूलाल विजयवर्गीय ने कहा कि बेटी को टीवी पर नहीं देख पाये इसका कोई गम नही है। सबसे बड़ी बात है कि देश की सबसे बड़ी शख्सियत के कार्यक्रम का वो हिस्सा बनी। उसके अकेले भेजने में पहले डर लग रहा था मगर फिर सोचा कि उसने मेहनत की है और इतना बड़ा मौका मिला है तो उसे जाना चाहिए। पिता मनोज विजयवर्गीय ने कहा कि हम लोग बहुत खुशी महसूस कर रहे हैं। बेटी अपनी मेहनत से वहां गयी। अर्पिता की मम्मी उसे रांची तक छोड़ने भी गयी थी। मंगलवार को वो चाईबासा लौटेगी तो खूब बात करेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस