जागरण संवाददाता, चाईबासा : शहर के बड़ीबाजार के बरकंदाज टोली में रहने वाली रुख्सार परवीन ने आरोप लगाया है कि उसके ससुराल वालों ने उसके पति का अपहरण कर लिया है और अब उनपर पहले से चले आ रहे केस को उठाने का दबाव बना रहे हैं। रख्सार ने पुलिस अधीक्षक से शिकायत कर न्याय की गुहार लगाई है। साथ ही सदर थाना में सास सलमा खातून, जेठ अकबर रशीद, बहनोई मो. नसीम, ननद, शहनाज परवीन, रुबी परवीन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। रुख्सार ने कहा कि 20 मार्च 2017 को मैंने और बड़ीबाजार के आदिल रशीद ने कोर्ट में शादी की। इसके बाद 31 मार्च 2017 को मुस्लिम रीति- रिवाज के साथ समाज के सामने भी निकाह पढ़ा। निकाह के बाद ससुराल वालों ने दोनों को घर से निकाल दिया। हम दोनों किराये के मकान में रहकर जीवन गुजार रहे थे। पति आदिल सिलाई का काम करता है। शादी के एक साल बाद मैंने एक बेटी को जन्म दिया। बेटी पैदा होने पर ससुराल वाले और नाराज हो गए। उन्हें बेटा चाहिए था। इस वजह से ससुराल वाले मुझे अपने पति से तलाक दिलवाने की कोशिश करने लगे। साथ ही मुझे भी मानसिक प्रताड़ना देने लगे।

2016 में यौन शोषण का दर्ज कराया था मामला

रुख्सार ने बताया कि मैंने 2016 में अपने पति के बड़े भाई अकबर रशीद के खिलाफ सदर थाना में यौन शोषण का एक मामला दर्ज कराया था। कोर्ट में उसपर सुनवाई चल रही है। अब ससुराल वाले केस उठाने के लिए मुझपर लगातार दबाव दे रहे हैं। जेठ अकबर कहता है कि अगर केस नहीं उठाया तो तेरे पति को जान से मार दूंगा। इन धमकियों के बाद 17 अप्रैल 2019 को मेरे पति आदिल सुबह 11 बजे घर से मशीन बनाने निकले थे। उसके बाद से आजतक वापस नहीं आए। जब उसे खोजते हुए ससुराल पहुंची तो ससुराल वालों ने कहा कि जेठ पर लगाया केस उठाएगी तभी तेरे पति को वापस करेंगे। इसके बाद गाली-गलौज कर मुझे धक्के देकर वहां से भगा दिया। उन लोगों ने मेरे पति को घर में ही बंदी बनाकर रखा है। मुझे और मेरी एक साल की बेटी को न्याय चाहिए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप