जागरण संवाददाता, चाईबासा : चाईबासा शहर की जनता को अगले चार माह के भीतर नगर का नया चेयरमैन चुनने का मौका मिलेगा। चाईबासा नगर पर्षद के चेयरमैन मिथिलेश कुमार ठाकुर ने झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 में गढ़वा सीट जीत ली है। वो अब गढ़वा के नए विधायक बन गए हैं। इस वजह से उन्हें चेयरमैन पद से इस्तीफा देना पड़ेगा। इस्तीफा देने के बाद यह पद खाली हो जायेगा। नगर विकास विभाग को रिक्त पद पर नया चेयरमैन चुनने के लिए छह माह के भीतर उपचुनाव कराना होगा। चूंकि पड़ोस में चक्रधरपुर नगर पर्षद का चुनाव अप्रैल में प्रस्तावित है इसलिए चाईबासा में चेयरमैन पद का उपचुनाव भी इसी के साथ कराने की प्रबल संभावना है। चाईबासा में उपचुनाव की सुगबुगाहट मात्र से ही कई लोग चेयरमैन पर लड़ने की तैयारी में जुट गये हैं। अगर अप्रैल में उपचुनाव हो गया तो विजेता को कम से कम 3 साल के लिए चेयरमैन की कुर्सी मिल जायेगी। चाईबासा में अगला नगर पर्षद चुनाव अप्रैल 2023 में प्रस्तावित है।

----------------

क्यों महत्वपूर्ण होता है नगर पर्षद अध्यक्ष का पद

नगर पर्षद चेयरमैन नगर का मुखिया होता है। शहर में में सभी सुविधाएं की देखरेख नगर पर्षद अध्यक्ष के माध्यम से होती है। शहर कि किसी भी प्रकार कि गतिविधि हो या कोई भी सामाजिक व्यवस्था से जुड़ा कार्य नगर पर्षद के माध्यम से ही होता है। नगर में मकान का कार्य हो या किसी चल अचल संपत्ति से संबंधित कार्य हो, लीज पट्टा, नजूल, आबादी, इससे जुड़े हुए सारे आवश्यक कार्य नगर पर्षद के अंतर्गत आते हैं और वह उसका संचालन करती है। व्यवस्थाओं में नगर में जल व्यवस्था स्वच्छता बिजली पहुंचाना और समस्त नगर की देखभाल करना नगर पर्षद और नगर पर्षद अध्यक्ष की जिम्मेदारी होती है।

------------------------

पिछले चुनाव में भाजपा के अनूप सुल्तानियां को हराकर चेयरमैन बने थे मिथिलेश

नगर पर्षद का चुनाव हर पांच साल में होता है। पिछली बार चाईबासा नगर पर्षद का चुनाव 21 अप्रैल 2018 को हुआ था। पहली बार अनारक्षित कोटि पर हुए चुनाव में झारखंड मुक्ति मोर्चा के टिकट पर चेयरमैन पद पर लड़ते हुए मिथिलेश कुमार ठाकुर ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी अनूप कुमार सुल्तानियां को 3939 मतों के अंतर से हराया था। मिथिलेश कुमार ठाकुर को 9616 और अनूप कुमार सुलतानियां को 5677 वोट मिले थे। तीसरे स्थान पर कांग्रेस की नीला नाग थीं। उन्हें 3361 वोट मिले थे।

--------------

यह भी जानें

चाईबासा नगर पर्षद में अभी तक चार अध्यक्ष बने हैं। इनमें स्वर्गीय सीताराम रुंगटा, गीता बालमुचू, नीला नाग और मिथिलेश कुमार ठाकुर शामिल हैं। झारखंड अलग राज्य बनने के बाद पहली पर चाईबासा में 2008 में नगर निकाय चुनाव हुए थे। उस समय अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीट पर गीता बालमुचू चुनाव जीतकर पहली महिला चेयरमैन बनीं थी। दूसरी बार 2013 में हुए चुनाव में नीला नाग विजेता बनीं। अप्रैल 2018 में अनारक्षित चाईबासा सीट पर हुए चुनाव में मिथिलेश कुमार ठाकुर ने जीत दर्ज की। उपचुनाव भी अनारक्षित कोटे के तहत होगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस