चाईबासा, जागरण कार्यालय : कोल्हान एडवेंचर फाउंडेशन के तत्वावधान में सदस्यता अभियान जिला सचिव अनु पुरती एवं सुनीता हेंब्रम ने प्रोजेक्ट उच्च विद्यालय कोकचो से शुभारंभ किया। इसमें छात्र-छात्राओं को मैडम बचेंद्री पाल की जीवनी के बारे में विशेष जानकारी दी गई है।

बचेंद्री पाल एक किसान परिवार से हैं। उनका जन्म 24 मई 1954 को नकूरी गांव में हुआ। बचपन से ही उन्हें पहाड़ चढ़ने का बहुत शौक था। बड़े होकर नेहरू इंस्टीच्यूट ऑफ माउटेंनियरिंग से उन्होंने पहाड़ पर चढ़ने की ट्रेनिंग ली और गाइड सर बिग्रेडियर ज्ञान सिंह थे। 984 में बचेंद्री को माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने के लिए चुना गया। 23 मई 1984 में 1 बजकर सात मिनट पर 8900 मीटर ऊंचाई चोटी माउंट एवरेस्ट पर कदम रखा। करीब 43 मिनट वह दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर रही। इसके साथ हरी मैडम बचेंद्री पाल भारत की पहेली और संसार की पांचवीं ऐसी महिला बन गई जिन्होंने एवरेस्ट पर कदम रखा। आप भी मैडम बचेंद्री पाल की तरह बनें विद्यालय तथा अपने गांव का नाम रोशन करें। प्रधानाध्यापक आनंद गोप ने भी कोल्हान एडवेंचर फाउंडेशन सदस्य अभियान चला रहे छात्र-छात्राएं जागरूक करने का प्रयास किया।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर