जासं,सिमडेगा : उपायुक्त सुशांत गौरव की अध्यक्षता में आपदा प्रबंधन समिति की बैठक का आयोजन हुआ। बैठक में शीतलहरी, सड़क दुर्घटना, सर्पदंश , अतिवृष्टि, कोविड-19 आदि आपदा से संबंधित कार्यों की समीक्षा की गई। डीसी ने ठंड को देखते हुए अलाव की व्यवस्था 31 जनवरी तक लगातार करने की बात कही । कार्यपालक पदाधिकारी को भ्रमण कर आवश्यक जगहों पे अलाव का प्रबंध करना सुनिश्चित करने की बात कही। अंचल अधिकारी को भी फंड का फिक्र नहीं करते हुए अलाव की व्यवस्था कराने की बात कही। कोविड-19 के परिप्रेक्ष्य में मृत व्यक्ति के आश्रितों एवं हकदारों को लाभ दिलाना सुनिश्चित करने की बात कही। कोविड से मृत 80 पीड़ित परिवार को लाभ दिया जा चुका है। कोविड संक्रमण से मृत लोगों के आश्रितों को एकमुश्त 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता पहुंचाने की प्रक्रिया की समीक्षा की। इसके तहत मृतकों के आश्रित परिवारों से मदद पाने के लिए आवेदन की प्रक्रिया व आवश्यक दस्तावेज का मिलान कराने को कहा।अतिवृष्टि से फसल क्षति हेतु लाभुकों की पुष्टि करते हुए आवश्यक दस्तावेजों को प्राप्त कर अभिलेख प्रस्ताव तैयार कर भूमि सुधार उप समाहर्ता के माध्यम से वित्तीय वर्ष की समाप्ति के पश्चात 2 फरवरी तक अभिलेख उपलब्ध कर लाभ देने की बात कही। उन्होंने स्थानीय आपदा बाजार वज्रपात से मृत, घायल व्यक्ति एवं मृत पशु के आश्रित व्यक्तियों की खोज करते हुए मुआवजा की राशि का लाभ दिलाना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। अनुमंडल पदाधिकारी को सड़क दुर्घटना एवं सर्पदंश से संबंधित मामलों की समीक्षा बैठक प्रत्येक सप्ताह करने का निर्देश दिया। साथ ही उन्होंने कोविड-19 से संबंधित प्राप्त आवंटन को समर्पित करने से पहले आपदा से संबंधित सभी मामलों की समीक्षा करते हुए शत प्रतिशत राशि का खर्च करना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। इसके अलावा अन्य महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश दिए। बैठक में नगर परिषद् अध्यक्ष पुष्पा कुल्लू, अपर समाहर्ता अमरेन्द्र कुमार सिन्हा, अनुमंडल पदाधिकारी महेंद्र कुमार, सिविल सर्जन डॉक्टर पीके सिन्हा एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran