जासं, सिमडेगा : उपायुक्त सुशांत गौरव की अध्यक्षता में बच्चों में नशीली दवाओं व मादक द्रव्यों एवं मानव तस्करी की रोकथाम को लेकर बैठक की। उपायुक्त ने कहा कि अब स्कूल के आस-पास सिगरेट,हड़िया, शराब, नशीली दवाओं एवं अन्य तंबाकू उत्पाद एवं मेडिकल स्टोर से अनुसूचित एच एवं एक्स ड्रग्स की बिक्री करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। उपायुक्त ने बच्चों के बेहतर भविष्य व उनके जीवन से नशा मुक्त करने की दिशा में अधिकारियों को दिशा- निर्देश देते हुए कहा कि जिले के सभी विद्यालयों के आसपास शराब की दुकान, गुटखा, सिगरेट,पान मसाला बिक्री की दुकान नहीं हो। उन्होंने इसे सुनिश्चित करने को कहा।सभी मेडिकल सेंटर में सीसीटीवी कैमरा अधिष्ठापन कराने का निर्देश दिया। अनुसूचित एच एवं एक्स जैसे दवाई बच्चों को बिक्री पर पैनी नजर रखने की बात कही। उप विकास आयुक्त सहित टीम को निर्देश देते हुए कहा कि स्कूल के आसपास की सभी दुकानों की बेसिक जानकारी रखें। बीच-बीच में वीडियोग्राफी के साथ जांच करें। गुटखा, बीड़ी, सिगरेट एवं पान मसाला जैसे अन्य नशीले पदार्थों की बिक्री पर रोक लगाएं। जांच में नियमों के उल्लंघन पाए जाने पर दुकान सील करने की बात कही।साथ ही दोषी पाए जाने पर एफआइआर दर्ज कर कराई करना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। जेजे एक्ट की धारा 77 एवं 78 के तहत स्कूल,शैक्षणिक संस्था, सरकारी एवं निजी कार्यालय के आसपास शराब,नशीली दवाइओं, साइकोट्रोपिक पदार्थ की बिक्री करने वालों की जांच करते हुए एफआइआर दर्ज कराने की बात कही। उन्होंने यह भी कहा कि माता पिता एवं शिक्षकों का उन्मुखीकरण कार्यक्रम भी आयोजित किया जाए। ताकि किशोरों एवं बच्चों के मनोविज्ञान को समझते हुए उनकी भावनात्मक संकट की घड़ी में उन्हें सहायता प्रदान करने को सक्षम हो सके। जिससे उनकी ड्रग्स एवं नशीली दवाओं पर निर्भरता रोकी जा सके। बैठक में डीडीसी अरुण वाल्टर सांगा, सिविल सर्जन डा.पीके सिन्हा,अनुमंडल पदाधिकारी महेंद्र कुमार, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी रेणु बाला, उत्पाद अधीक्षक, डीएसपी, बाल कल्याण पुलिस पदाधिकारी, जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी व अन्य उपस्थित थे । स्कूल परिसर में शराब पीने की शिकायत पर कार्रवाई

: विद्यालय प्रांगण एवं परिसर में शराब पीने की शिकायत के मद्देनजर उपायुक्त ने पीसीआर के माध्यम से संध्या एवं रात्रि में औचक रूप से विद्यालय का निरीक्षण करते रहने का निर्देश दिया। अनुशासन एवं विद्या के मंदिर में बैठ शराब का सेवन करते पाए जाने पर सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया। नशापान छोड़वाने के लिए सदर अस्तपाल में डीडीएसी सेन्टर की शुरूआत की गई है। जहां एक साथ 15मरीजों का मुफ्त में इलाज व पूर्ण स्थापना हेतु कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जायेगा। उपायुक्त ने इस सुविधा का आम-जनों में प्रचार-प्रसार कराने का निर्देश दिया।

Edited By: Jagran