संवाद सूत्र, खरसावा : शुक्रवार को प्रभु जगन्नाथ, बलभद्र व बहन सुभद्रा का नेत्र उत्सव होगा। भक्तों को प्रभु जगन्नाथ, बड़े भाई बलभद्र व बहन सुभद्रा 15 दिनों के बाद शुक्रवार को दर्शन देंगे। खरसावां, हरिभंजाए चाकड़ी, बंदोलौहर, दलाईकेला, पोटोबेड़ा, संतारी, गालूडीह, जोजोकुड़मा और सीनी में नेत्र उत्सव मनाया जाएगा। इस दौरान प्रभु के नव यौवन रूप के दर्शन होंगे। इस मौके पर मंदिरों में विशेष पूजा अर्चना कर प्रभु का श्रृंगार किया जाएगा।

मालूम हो कि स्नान पूर्णिमा के दिन अत्यधिक स्नान से प्रभु जगन्नाथ, बलभद्र व बहन सुभद्रा बीमार हो गए थे। अणसर गृह में प्रभु जगन्नाथ, बलभद्र व सुभद्रा के उपचार के बाद प्रभु स्वस्थ्य हो गए हैं। अणसर गृह में अलग-अलग जड़ी बूटियों से तैयार दवा देकर प्रभु का उपचार किया गया। अब प्रभु जगन्नाथ पूरी तरह से स्वस्थ्य हो गए हैं। नेत्र उत्सव के एक दिन बाद 14 जुलाई को प्रभु जगन्नाथ अपने भाई बहन के साथ मौसी बाड़ी के लिए प्रस्थान करेंगे। इसके लिए रथ यात्रा की तैयारी पूरी की जा रही है।

दूसरी ओर खरसावां तथा आसपास के क्षेत्रों में रथ यात्रा की तैयारी भी अंतिम चरण में है। रथ निर्माण के साथ साथ मूर्तियों की रंगाई-पुताई का काम पूरा कर लिया गया है। रथ यात्रा में हजारों संख्या में श्रद्धालु भगवान जगन्नाथ के रथ को खींचने के लिए पहुंचेंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस