जागरण संवाददाता, सरायकेला : गर्मी चरम पर है तो आसमान से आग बरस रही है। लू से दोपहर में सड़क पर निकलना मुश्किल हो गया है। लोग बेहाल हैं और बाजार व सड़क पर सन्नाटा पसरा है। मजबूरी में घर से निकलने वाले लोग खुद को पूरी तरह से कपड़ों से ढककर निकल रहे हैं। वहीं तापमान 41 डिग्री सेल्सियस के पार जाने के बाद कोरोना महामारी के साथ अब गर्मी ने भी लोगों के पसीने छुड़ाने शुरू कर दिए हैं। विगत एक सप्ताह से पड़ रही गर्मी से सामान्य जनजीवन प्रभावित होने लगा है जो की लॉकडाउन को और सफल बनाने में सहायक साबित हो रहा है। पहले लोग लॉकडाउन में प्रशासन द्वारा कुछ समय के लिए दिन में दी जाने वाली ढील के चलते घरों से बाहर निकलकर खरीदारी करने के लिए पहुंच रहे थे, लेकिन अब तापमान के 42 डिग्री के आसपास पहुंचने पर भी लोग घरों में ही रहना मुनासिब समझ रहे हैं। मंगलवार को जिले में 41.6 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया, जबकि न्यूनतम 23.3 डिग्री रहा। अभी आने वाले दिनों में और गर्मी बढ़ने की संभावना जताई जा रही है।

------------------------

अब और रौद्र रूप दिखाएगी गर्मी

भीषण गर्मी से जूझ रहे लोगों की असली परीक्षा अब शुरू होगी। बुजुर्गों का कहना है कि गर्मी का असली माह तो अब आया है। जेठ की तपती दुपहरी तो और भी हालत खराब करेगी। लोगों के मुताबिक, गर्मी का असली माह तो जेठ ही कहा गया है। ऐसे में अभी एक माह तक और भीषण गर्मी झेलने के लिए लोगों को तैयार रहना होगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस