जागरण संवाददाता, सरायकेला : कोरोना काल में खाद्य सामग्रियों की कालाबाजारी व जमाखोरी को नियंत्रित करने के लिए जिला प्रशासन की ओर से लगातार छापेमारी की जा रही है। फिर भी गरीबों के अनाज पर डाका डालने की लत से लोग बाज नहीं आ रहे हैं। गरीबों को दिए जाने वाले अनाज में भी घपला किया जा रहा है। सरायकेला प्रखंड स्थित सीनी के कृषोंपुर बेरगाडीह में ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां गांव के लोगों के लिए महज 10 किलोमीटर की दूरी से पहुंचने वाला 45 क्विंटल अनाज डीलर ने रास्ते में ही गायब कर दिया। बीडीओ ने कृषोंपुर बेरगाडीह गांव के पीडीएस डीलर गणेश तियू से जब पूछा गया तो उसने बताया कि मिलने 45 क्विंटल चावल व गेहूं छह मई को किसी ने फर्जी हस्ताक्षर कर एफसीआइ गोदाम से उठाव कर लिया। छह मई को अनाज डिस्पैच के बाद उनके दुकान तक नहीं पहुंचा। हालांकि जब बीडीओ ने पीडीएस डीलर गणेश तियू से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने बताया कि राशन मैने ही उठाया है। डोर स्टेप डिलीवरी के तहत खाद्यान्नों के जन वितरण प्रणाली की दुकानों तक पहुंचाने का दो साल का ठेका डीएसडी एजेंसी के प्रोपराइटर अनंत कुमार सिंह को दिया गया है। अनंत कुमार सिंह ने बताया कि राशन डीलर का माल पहले जहां गिरता था, इस बार भी वहीं गिराया गया है। उसका रिसिविग भी डीलर ने किया है। एसडीओ के निर्देश पर बीडीओ ने किया निरीक्षण : सरायकेला अनुमंडलाधिकारी राम कृष्ण कुमार ने तुरंत मामले पर संज्ञान लिया। जिसके बाद उनके निर्देश पर प्रखंड विकास पदाधिकारी सरायकेला मृत्युंजय कुमार ने प्रखंड कार्यालय प्रांगण में स्थित एफसीआई गोदाम और कृषोपुर बेरगाडीह स्थित पीडीएस की दुकान पर जाकर स्थल निरीक्षण किया। आवश्यक कागजातों की जांच करते हुए उन्होंने कहा कि जल्द ही इसकी रिपोर्ट एसडीओ को सौंपी जाएगी। जिला कांग्रेस कमेटी ने की शिकायत : मामले की जानकारी होते ही सरायकेला खरसावां जिला कांग्रेस कमेटी के जिलाध्यक्ष छोटराय किस्कू बेरगाडीह स्थित पीडीएस की दुकान पर पहुंचे। और संचालक गणेश तियू सहित ग्रामीण उपभोक्ताओं से मिलकर पूरा हाल जाना। इसके साथ ही उन्होंने प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को पत्र लिखकर मामले की तत्काल जांच करते हुए दोषी पर कठोर कानूनी कार्यवाही करने की मांग की। उन्होंने कहा है कि कोरोना संकटकाल में एक ओर सरकार गरीबों को अनाज उपलब्ध कराने के लिए प्रयासरत है। वहीं दूसरी ओर लालची किस्म के गरीबों का ही अनाज गायब कर रहे हैं। जो बहुत बड़ा अपराध है। जो भी इसमें दोषी मिले उसके उपर कार्यवाई किया जाय।उन्होंने बताया कि राशन कालाबाजारी के इस मामले से विभागीय मंत्री को भी अवगत कराया जाएगा। डोर स्टेप डिलिवरी के एजेंसी व दोनों डीलर को शोकॉज किया गया है। 24 घंटे के अंदर जबाब मांगा गया है। पूरे मामले की जांच की जिम्मेदारी एमओ को दे दी गई है। जांच रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

- मृत्युंजय कुमार, बीडीओ, सरायकेला